Small Business Ideas: जल्द शुरू करें हर घर में इस्तेमाल होने वाला ये बिजनेस, हर महीने कमा सकते हैं लाखों रुपये

किसी भी ऐसी चीज का बिजनेस, जिसका इस्तेमाल हर रोज हर घर में होता है, वो कभी आपको घाटे में नहीं लेकर जाएगा। इन्हीं में से एक है खाना पकाने के तेल का व्यवसाय। ये सबसे महत्वपूर्ण घरेलू सामान है। जैसे-जैसे लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, खाद्य तेलों की मांग भी बढ़ती जा रही है।

Small Business Ideas

इस प्रकार तेल मिल व्यवसाय आप शुरू कर सकते हैं। आम तौर पर, सूरजमुखी, सरसों, कनोला, मूंगफली, सोयाबीन, बिनौला, रेपसीड और तिल जैसे विभिन्न बीजों से खाद्य तेल निकाला जा सकता है। तो आइए जानते हैं कि इस बिजनेस को शुरू कैसे किया जा सकता है….

कच्चे माल के स्रोत का चयन करना

आप या तिलहन दो प्रकार से प्राप्त कर सकते हैं। एक खरीद कर और दूसरा अपनी जमीन पर तेल के बीज उगा कर। आप सूरजमुखी, सरसों, तिल, सोयाबीन, मूंगफली और रेपसीड जैसे कई प्रकार के बीज उगा सकते हैं। साथ ही, आप वांछित कीमत पर बाजार में निर्यात कर सकते हैं। हालांकि, इस काम में समय और पैसा लगता है।

तेल मिल की स्थापना के लिए उपयुक्त स्थान

इस बिजनेस में ऑयल मिल लोकेशन की बहुत अहम भूमिका होती है। प्लांट लगाने से पहले दो बातों का ध्यान रखना चाहिए।
पहला आपकी तेल मिल उन खेतों के पास स्थित होनी चाहिए, जहां तेल निकालने के लिए पौधे उगाते हैं, ताकि आप आसानी से कम खर्चे में ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था कर सकें।

दूसरा तेल मिल लगाने के लिए जमीन का आकार कोई बड़ी बात नहीं है। प्रतिदिन 5 से 10 मीट्रिक टन की उत्पादन क्षमता वाली एक छोटे पैमाने की तेल निष्कर्षण इकाई के लिए 1000 वर्ग गज का क्षेत्र पर्याप्त है।

कैपिटल

कुकिंग ऑयल का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको अच्छी खासी रकम की जरूरत होती है। शुरू में हमारे पास इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए पूरे पैसे नहीं हो सकते हैं। ऐसे मामलों में आप बैंकों या निवेशकों से संपर्क कर सकते हैं। बैंकों से ऋण प्राप्त करने के लिए, आपको अपने तेल मिल व्यवसाय के बारे में एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट प्रस्तुत करने की आवश्यकता है। इस रिपोर्ट में आप अपने व्यवसाय का दायरा, कच्चा माल, मशीनरी, श्रमिकों की संख्या, तेल के स्थान का विवरण मिल, और व्यवसाय की अनुमानित परिचालन लागत जैसी चीजों की व्याख्या करेंगे।

तेल मशीनरी खरीदना

औद्योगिक पैमाने की तेल मिल के लिये एक तेल प्रेस, हीटिंग मशीन, रिफाइनिंग मशीन, निस्पंदन इकाई और पैकिंग मशीन, जबकि छोटे पैमाने पर तेल मिल के लिये स्टीम बॉयलर, सीड डीकार्टिकेटर, एक्सपेलर, फिल्टर प्रेस और एक स्क्रू कन्वेयर की जरूरत होगी। एक छोटे पैमाने पर तेल मिल सेटअप की कीमत INR 1.80 लाख से 8 लाख प्रति यूनिट तक होती है। ये सुनिश्चित करें कि मशीनों की स्थापना से पहले आपके संयंत्र में उचित बिजली और पानी की आपूर्ति हो।

श्रमिकों को काम पर रखना

तेल मिल में बहुत कम श्रमिकों की आवश्यकता होती है। एक छोटे पैमाने की इकाई को संयंत्र चलाने के लिए सिर्फ 3-4 श्रमिकों की आवश्यकता होती है, जिनमें से एक व्यक्ति तकनीशियन और एक व्यक्ति मार्केटिंग और डिस्ट्रीब्यूशन का ध्यान रखे।

लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन

भारत में खाद्य तेल निर्माण के लिए FSSAI लाइसेंस होना अनिवार्य है। फूड बिजनेस करने वालों के लिए यह लाइसेंस अनिवार्य है। इसके अलावा, FSSAI ने हाल ही में खाद्य उत्पादों की पैकिंग और लेबलिंग पर नियमों की घोषणा की। साथ ही आपको एक निजी कंपनी या एलएलपी या एकल स्वामित्व के रूप में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इन सबके अलावा आपको अपने बिजनेस के लिए जीएसटी नंबर की जरूरत होगी।

इस कारोबार में सबसे जरूरी मार्केटिंग योजना है। खाद्य तेल का विपणन मुख्य रूप से उत्पाद की लागत, किसी क्षेत्र की क्रय क्षमता, उत्पाद की मांग जैसी बातों पर निर्भर करता है। इसके अलावा, ब्रांडेड लेबलिंग और पैकिंग भी खाद्य तेलों के विपणन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!