भारत की एकमात्र जगह, जहां चारों दिशाओं से क्रॉस होती हैं ट्रेनें, देख कर चकरा जाएगा दिमाग

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

आप में से हर किसी ने ट्रेन से सफर तो किया ही होगा! सफर के दौरान आपने कई बार देखा होगा कि हर तरफ रेल की पटरियों का कैसा जाल बिछा होता है। रेल की पटरियां एक दूसरे को काटती रहती हैं और रेलगाड़ियां उसी पर अपना मार्ग बदल लेती हैं। ये रेलवे क्रॉसिंग ट्रेन के रूट के हिसाब से सेट होते हैं और फिर ट्रेन उसी रास्ते पर चलते हुए अपने गंतव्य तक पहुंचती है। रेलवे ट्रैक में एक खास तरह की क्रॉसिंग भी होती है, जिसे डायमंड क्रॉसिंग कहते हैं।

Diamond Crossing

इस क्रॉसिंग का नाम आप शायद पहली बार सुन रहे होंगे। ऐसी स्थितियां कभी कभार ही आती हैं, जब डायमंड क्रॉसिंग बनानी पड़ती है। कहा जाता है कि एशिया में एक या दो जगहों पर ही डायमंड क्रॉसिंग हैं। डायमंड क्रॉसिंग का मतलब रेलवे ट्रैक का ऐसा क्रॉसिंग होता है, जहां चारों दिशाओं से ट्रेनें गुजरती हैं। रेलवे का सिग्नल मैनेजमेंट इतना मजबूत है कि चारों दिशाओं से ट्रेनें आने पर भी आपस में टकराती नहीं हैं।

महाराष्ट्र के नागपुर में है ये डायमंड क्रॉसिंग

ये डायमंड क्रॉसिंग आपको महाराष्ट्र के नागपुर में देखने को मिल जाएगा। इसे देख कर आपका सिर चकरा सकता है कि सभी दिशाओं से गुजरने के बावजूद ट्रेनें आपस में क्यों नहीं टकरातीं! लेकिन रेलवे का समय प्रबंधन कोई दुर्घटना नहीं होने देता। जिस तरह सड़कों पर एक चौक होता है, जहां चारों दिशाओं से ट्रेनें आती हैं, उसी तरह डायमंड क्रॉसिंग को आप ट्रेनों का चौक कह सकते हैं।

डायमंड क्रॉसिंग पर ऐसे पार होती हैं ट्रेनें

डायमंड क्रॉसिंग में चार रेलवे ट्रैक होते हैं, जो एक दूसरे को दो-दो के आधार पर पार करते हैं। यानी इसमें चारों दिशाओं से ट्रेनें आ सकती हैं और दिखने में यह हीरे की तरह दिखाई देती है, इसलिए इसे डायमंड क्रॉसिंग कहा जाता है। अक्सर रेलवे में जो एक ही लाइन में पटरियां होती हैं और क्रॉसिंग में एक दूसरे को एक ही दिशा में काटती हैं, लेकिन डायमंड क्रॉसिंग में रेलवे ट्रैक एक दूसरे को क्रॉस की तरह क्रॉस करते हैं।

नागपुर में भारत का एकमात्र डायमंड रेलवे क्रॉसिंग है। हालांकि, कुछ खबरों के अनुसार यहां केवल तीन दिशाएं उपलब्ध हैं। इनमें से पूर्व में गोंदिया से एक ट्रैक है, जो हावड़ा-रौकेला-रायपुर लाइन पर स्थित है। एक ट्रैक है, जो उत्तर में दिल्ली से आता है। वहीं, एक ट्रैक दक्षिण भारत से आता है, जबकि एक ट्रैक पश्चिम मुंबई से भी आता है। रेलकर्मी किसी भी तरह की दुर्घटना से बचने के लिए चेकिंग और मरम्मत करते रहते हैं।

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!