Small Business Ideas: बाजार में इस पौधे की बढ़ रही है तेजी से मांग, हर महीने होगी लाखों रुपये की कमाई, जल्द करें शुरू

हमारे देश में रोजगार कमाने का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला तरीका कृषि है। यूं कह लें कि देश की आबादी का आधा हिस्सा अपना रोजगार खेती बाड़ी से ही कमाता है। ऐसे कुछ पेड़ पौधे हैं, जिनकी खेती करने से काफी मुनाफा होता है। इन्हीं में से एक है अकरकरा।

Small Business Ideas

अकरकरा (Spilanthes Acmella) प्रकृति द्वारा जीवों को दिया गया एक बहुमूल्य उपहार है। अकरकरा ताजा या सूखा कई आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक, यूनानी और एलोपैथिक दवाओं के निर्माण में प्रयोग किया जाता है। अकरकरा में प्राकृतिक तेल होता है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।

अकरकरा को Acmella oleracea के रूप में भी जाना जाता है। यह एक अद्वितीय और बहुमुखी हर्बल पौधा है और इसे उच्च औषधीय उपयोग के साथ दांत-दर्द रोधी पौधे के रूप में भी जाना जाता है। इसलिए इसे एक महत्वपूर्ण औषधीय पौधे के रूप में मान्यता दी गई है। स्वास्थ्य देखभाल और भोजन के रूप में इसके पारंपरिक उपयोगों के कारण, आजकल पूरी दुनिया में इसकी मांग तेजी से बढ़ रही है। अकरकरा के फूल मोटे लाल पदार्थ से शुरू होते हैं। बढ़ने के बाद उनका रंग पीला और ऊपर से थोड़ा लाल दिखाई देता है। पत्तियां गहरे हरे रंग की होती हैं और तने, पत्ती के डंठल और नसें हल्के बैंगनी रंग के साथ गहरे हरे रंग की होती हैं।

ऐसे करें अकरकरा की खेती

मई-जून का समय अकरकरा की खेती के लिये जमीन तैयार करने का सबसे अच्छा है। मिट्टी को अच्छी तरह से तैयार करने के लिये गाय के गोबर की खाद मिलानी चाहिए। पौधारोपण के लिये क्यारियां तैयार की जानी चाहिए। इसकी दूरी सिंचाई प्रणालियों पर निर्भर करती है। रोपण सामग्री बोने से पहले भूमि की अच्छी तरह से सिंचाई की जानी चाहिए।

अकरकरा की बुवाई अगस्त के महीने में शुरू होती है। फसल को खरपतवारों से मुक्त करने के लिए खरपतवारों की आवश्यकता होती है, जिसे मजदूरों द्वारा मैन्युअल रूप से नियंत्रित किया जाना चाहिए। कुछ विशेष तकनीकों का अभ्यास या तो प्रशिक्षण द्वारा या बार-बार दौरा करके किया जाता है। बुवाई की तारीख से पहले तीन से चार महीने बहुत महत्वपूर्ण होते हैं और देखभाल की जरूरत होती है।

फसल की परिपक्वता

पौधे लगाने के दो से तीन महीने के बाद फूल आना शुरू हो जाते हैं। फरवरी-मार्च के महीने में इसकी जड़ें दिखाई देने लगती है। परिपक्व फूलों की कलियों को धीरे से तोड़ना चाहिये। ताजे फूलों की कलियाँ लाल शीर्ष के साथ पीले रंग की होती हैं। फूल आने के बाद पौधे कई फूल पैदा करता है और इसे समय-समय पर काट लेना चाहिये। इसके बाद उचित प्रक्रिया से इसे ठीक से सुखा लें।

फसल चक्र पूरा होने के बाद जड़ को खोदकर सुखा लेना चाहिए। बाजारों में भारतीय अकरकरा के बीज, पौधे, फूल सूखी जड़ें आदि बिकती हैं।

लाखों का मुनाफा

बात करें इसकी खेती से होने वाले मुनाफे की, तो अकरकरा की जड़ें करीब 20 हजार रूपये में बिकती हैं। अकरकरा के बीज 10 हजार रूपये प्रति क्विंटल की दर से मिलते हैं। ऐसे में आप एक एकड़ जमीन में 40 से 50 हजार रुपये निवेश कर इसकी खेती शुरू कर सकते हैं और 2 से 3 लाख का मुनाफा आपको जरूर होगा।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें