दुनिया के इन देशों में भारतीय पैसों से कर सकते हैं शॉपिंग, लेकिन रखना होगा इस बात का खास ध्यान

दुनिया के हर देश की अपनी एक मुद्रा होती है और उस देश में खरीदारी करने के लिए हमें उन देशों की मुद्रा में अपने पैसों को बदलवाना पड़ता है। जो कई बार सिरदर्दी का कारण बनता है, क्योकि उसे बदलवाने में काफी समय व्यर्थ होता है। परन्तु कुछ ऐसे भी देश है जहां हमे मुद्रा एक्सचेंज करने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है।

Indian Rupee

उन देशों में हम अपने देश की मुद्रा में ही खरीददारी कर सकते है, जिससे हमारा काफी समय बचता है और हमें दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ते हैं। बात करें उन देशो की जहां हम अपनी मुद्रा में खरीदारी कर सकते हैं तो चलिए अब हम आपको उन देशों के बारे में बताते हैं।

इन देशों में चलता है भारतीय मुद्रा

  • नेपाल
  • भूटान
  • श्रीलंका
  • म्यांमार
  • बांग्लादेश

भूटान अगर हम जाते है तो हमें मुद्रा नहीं बदलवानी पड़ेगी, क्योंकि भूटान के साथ भारत की मुद्रा पेग्ड है। जिसका मतलब यह है की वह भारतीय रूपए के एक्सचेंज रेट में कोई अंतर नहीं है। जिस वजह से हम वहां खरीददारी कर सकते है परन्तु कुछ नियम कायदे है जिसका हमे ख्याल रखना पड़ता है।

विदेश में कहां भारतीय रुपया लीगल है?

नेपाल से हमारे देश के रिश्ते सालों से अच्छे रहे हैं जिस वजह से हमे वहां जाने के लिए पासपोर्ट वीजा की जरूरत नहीं होती तथा भौगोलिक तौर पे परोसी देश होने के कारण नेपाल और भारत में बड़े पैमाने पर कारोबार होता है। नेपाल में भारत के नागरिकों के कई रिश्तेदार रहते है जिस वजह से भारतीय लोगो का नेपाल आना जाना लगा रहता है। नेपाल और भूटान के अलावा कुछ अफ़्रीकी देश भी भारतीय मुद्रा को लीगल करेन्सी के तौर पर स्वीकार करता है।

शॉपिंग करते समय रखें इन बातों का ख्याल

नेपाल में खरीदारी करते समय आपको यह ध्यान देना होगा कि आप बड़े नोट जैसे 500, 2000 या 200 का इस्तेमाल न करे। वहां आप सिर्फ 100 तक के ही नोट ले कर जाएं। क्योंकि रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) ने सिर्फ 100 रूपये के ही नोटों को नेपाल ले जाने की इजाजत देता है | अगर आप इससे बड़े नोट लेकर जाना चाहते है तो आप 25000 तक की अधिकतम राशि ही नेपाल लेकर जा सकते है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नेपाल सरकार ने वर्ष 2021 में बड़ा फैसला लेते हुए 2000, 500 और 200 के भारतीय नोटों पर प्रतिबन्ध लगा दिया है। लगे प्रतिबन्ध के अनुसार अगर कोई भी आदमी इन भारतीय नोटों के साथ पकड़ा जाए तो उस पर आर्थिक अपराध के तौर पर मुकदमा दर्ज होगा। इसके अलावा उसे गिरफ्तार कर जेल भी भेजा जा सकता है।

इस प्रतिबन्ध का सबसे बरा कारण यह है कि नोट बंदी के बाद नेपाल में अब भी पुराने एक हजार और पांच सौ के भारतीय नोट पड़े हैं। जिन्हें वापस नहीं लिया गया। केंद्रीय बैंक का कहना है कि उसके पास भारत के तकरीबन आठ करोड़ रूपए मूल्य के पुराने नोट हैं। विदेशी विनिमय व्यस्थापन विभाग के कार्यकारी निदेशक भीष्मराज ढुंगाना ने बीते सितंबर में भारत सरकार से भारतीए करेंसी लौटाने पर पर सवाल किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेपाल के जनकपुर दौरे पर नेपाल के प्रधानमंत्री ने भी इस मुद्दे पर चर्चा की थी। परन्तु भारतीय सरकार की और से इस मुद्दे पर कोई कदम नहीं उठाने के कारण नेपाल ने इन नोटों पर प्रतिबन्ध लगाया है ताकि ज्यादा भारतीय मुद्रा नेपाल में एकत्रित न हो।

इन देशों के साथ बड़े पैमाने पर भारत कारोबार करता आ रहा है। इसी वजह से इन देशों की यात्रा करते समय आपको करेंसी एक्सचेंज के झंझट में नहीं पड़ना होगा। आप आसानी से वहां पर खरीदारी कर सकते है। बात करें बांग्लादेश और मालदीव की तो वहां के कई इलाको में अवैध तरीके से भारतीय रूपया स्वीकार किया जाता है जिस कारण देश की सुरक्षा पर असर पड़ता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें