डॉक्टर दाईं करवट सोने से क्यों मना करते हैं? जानिए बाईं करवट सोने से क्या-क्या फायदे होते हैं?

सभी लोगों के सोने का तरीका एक-दूसरे से काफी अलग होता है। कुछ लोगों को जहां दाई करवट लेकर सोना पसंद है, तो वहीं कुछ लोग बाई करवट लेकर ज्यादा सोते हैं। लेकिन क्या आपको पता है, कि आपके सोने की पोजीशन आपकी सेहत पर किस तरह से असर डालती हैं?

Sleeping On Your Left Side

इसलिए हम आपको सोने की ऐसी पोजीशन के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपकी सेहत को अच्छा बनाए रखने के लिए काफी मददगार साबित होती है। आयुर्वेद के मुताबिक बाई करवट लेकर सोने को सबसे बेस्ट पोजीशन बताई गई हैं। बाई करवट पर सोने से सेहत अच्छी बनी रहती हैं, क्योंकिं इससे शरीर के अंग बेहतर तरीके से काम करती हैं।

दिल सेहतमंद रहता हैं

दिल हमारी बाई तरफ होता हैं और जब आप उसी तरफ करवट लेकर सोते हैं, तो इससे दिल पर प्रेशर कम पड़ता हैं और दिल सेहतमंद रहता हैं।

डिजेस्टिव सिस्टम बेहतर होता हैं

बाई तरफ सोने से डाइजेशन भी बेहतर होता हैं, बाई तरफ करवट लेकर सोने से शरीर में मौजूद वेस्ट मटेरियल आसानी से छोटी आंत से बड़ी आंत तक पहुंच जाता है और पेट से जुड़ी समस्याएं होने का खतरा कम हो जाता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा

हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो गर्भवती महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा अपने बाई ओर करवट लेकर ही सोना चाहिए। दरअसल गर्भावस्था के दौरान, महिलाओं के बाएं तरफ सोने से उनकी कमर पर प्रेशर कम पड़ता है और साथ ही गर्भाशय और भ्रूण में खून का बहाव सही ढंग से होता है।

खर्राटे की समस्या होती हैं दूर

बाई ओर सोने से खर्राटों की समस्या काफी कम हो जाती है। बाई करवट लेकर सोने से जुबान और गला न्यूट्रल पोजीशन में रहते हैं, जिससे सोते समय सांस लेने में कोई दिक्कत नहीं होती हैं।

अन्य कई फायदे मिलते हैं

बाई करवट लेकर सोने से गर्दन और कमर दर्द में राहत मिलती है। किडनी और लीवर बेहतर तरीके से काम करते हैं। गैस और सीने में जलन की समस्या नहीं होती है। अल्जाइमर का खतरा भी काफी कम हो जाता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें