Largest Rail Network: भारत के किस राज्य के पास मौजूद है सबसे अधिक ट्रेन? 98 प्रतिशत लोगों को नहीं मालूम इसका जवाब

Largest Rail Network: दुनिया में ट्रेन की यात्रा सरल, बजट फ्रेंडली और सुरक्षित मानी जाती है। भारत का रेल नेटवर्क दुनिया में चौथे स्थान पर है। दुनिया में पहला बड़ा रेल नेटवर्क संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) के पास है, दूसरे नंबर पर चीन रेलवे है।

Largest Rail Network

वहीं तीसरे पर रूस और चौथे पर भारत का रेल नेटवर्क आता है। अगर भारत की बात करें तो यहां हर दिन लगभग 2.5 करोड़ लोग रेल यात्रा करते हैं। ऐसे में किस राज्य के पास सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है ये बड़ा सवाल है जिसका जवाब हर किसी को पता होना चाहिए।

भारतीय रेलवे को कभी-कभी देश की जीवनधारा कहा जाता है। ट्रेन लेना काफी किफायती और सुरक्षित होता है। भारत में किस राज्य के पास कितने किलोमीटर का रेल नेटवर्क है, चलिए आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं क्योंकि ये जनरल नॉलेज का सवाल है.

भारत में किस राज्य में है सबसे बड़ा रेल नेटवर्क? (Largest Rail Network)

सैकड़ों किलोमीटर लंबी रेलवे लाइनों के साथ, उत्तर प्रदेश में देश का सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है। सभी भारतीय राज्यों में से, यह छठे सबसे अधिक रेलवे घनत्व का दावा करता है। राज्य 9077.45 किलोमीटर रेलवे नेटवर्क के माध्यम से देश के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है।

हर दिन 300 से अधिक ट्रेनें यहां से गुजरती हैं, लखनऊ का चारबाग रेलवे स्टेशन पूरे भारत में सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशनों में से एक है। इस स्टेशन पर प्रतिदिन लगभग 3.50 लाख यात्री इसके 15 प्लेटफार्मों से गुजरते हैं। दूसरे सबसे अच्छे रेल नेटवर्क की चर्चा की जाए तो राजस्थान दूसरे नंबर पर आता है।

स्टेशन का निर्माण ब्रिटिश औपनिवेशिक काल के दौरान किया गया था; चाटबाग रेलवे की स्थापना 1914 में हुई थी और 1923 में बनकर तैयार हुई थी। इसे एक ब्रिटिश वास्तुकार ने डिजाइन किया था। इसके निर्माण में एक भारतीय इंजीनियर चौबे मुक्ता प्रसाद ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस रेलवे स्टेशन को बनाने में उस समय 70 लाख रुपये की लागत आई थी।

स्टेशन के सामने एक बड़ा पार्क है, जिसमें मुगल, राजपूत और अवधी वास्तुकला के तत्व मौजूद हैं। इसके अलावा कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन पांच सबसे व्यस्त स्टेशनों में से एक है। हर दिन, 280 से अधिक ट्रेनें इस स्थान से होकर गुजरती हैं। कानपुर सेंट्रल पर प्लेटफार्म नंबर दस। 1930 में जनता इस तक पहुंचने में सक्षम हो गई।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें