UREA DAP New Rate 2023: किसानों को लगा बड़ा झटका, अब इतना महंगा होगा DAP यूरिया खाद, जानें नई कीमत

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

UREA DAP New Rate 2023: भारत के किसानों के लिए दिन प्रति दिन खेती करना मुश्किल होता जा रहा है, क्योंकि इंडिया में महंगाई तेजी से बढ़ती जा रही है। इसका सामना करना किसानों के किए बहुत मुश्किल होता जा रहा है। फसल उगाने के लिए किसानों को पहले पैसे खर्च करने पड़ते हैं, क्योंकि उस दौरान उन्हें खेतों में कई तरह के खाद का इस्तेमाल करना पड़ता है।

UREA DAP New Rate

डीएपी यूरिया खाद का इस्तेमाल देश के बहुत सारे किसान करते हैं, इस वजह से उन्हें अपने फसल को बेहतर बनाने के लिए खरीदना पड़ता है। डीएपी खाद का इस्तेमाल सरसों तथा गेहूं की फसल के लिए किया जाता है। लेकिन अब भारतीय किसानों को बड़ा झटका लगने वाला है, क्योंकि UREA DAP New Rate में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिला है। इस वजह से बहुत सारे किसान निराश होंगे।

UREA DAP New Rate 2023

जिन्हें डीएपी के बारे में अधिक जानकारी नहीं हैं उन्हें मैं बता देना चाहता हूं कि इसका पूरा नाम Di-ammonium Phosphate है। इसका इस्तेमाल किसान सरसों तथा गेहूं की फसल में करते हैं, यह पौधों को बेहतर बनाने के लिए नाइट्रोजन तथा फास्फोरस की कमी को पूरा करने का काम करता है। इन दिनों किसानों को डीएपी खाद की बहुत जरुरत है, इस वजह से हर कोई इसकी कीमत के बारे में जानना चाहते हैं।

इन दिनों बहुत सारे किसान डीएपी तथा यूरिया खाद खरीद रहे हैं, जिन्हें अधिक कीमतों में खरीदना पड़ रहा है। पहले यूरिया का 45 किलो वाला बोरी 242 रुपये में मिलता था। वहीं डीएपी के 1350 किलो वाले बोरी की कीमत 1350 रुपये थी, लेकिन अब इसमें बढ़ोतरी होने वाली है तो चलिए अब हम इसकी नई कीमत के बारे में जानते हैं।

डीएपी तथा यूरिया की नई कीमत

भारत के किसान डीएपी तथा यूरिया खाद का इस्तेमाल रवि फसल के लिए करते हैं, इस वजह से जब उन्हें जब इसकी आवश्यकता पड़ती है तब वो किसी भी कीमत पर खरदीने के लिए तैयार हो जाते हैं। क्योंकि खेतों में इसका इस्तेमाल नहीं होगा तो उनका फसल खराब हो जाएगा। इस खाद का इस्तेमाल कुछ ज्यादा ही होता है, जिस वजह से किसानों को अधिक मात्रा में खरीदना पड़ता है, यही कारण है कि इसकी नई कीमत के बारे में हर कोई जानने के लिए इच्छुक रहते हैं।

किसानों को पहले यूरिया की 45 किलोग्राम वाली बोरी 266.50 रुपये में मिलती थी, लेकिन अब उन्हें इस के लिए 268 रुपये भुगतान करने होंगे। वहीं डीएपी के 50 किलोग्राम वाली बोरी पहले 1350 रुपये में मिलता था, लेकिन अब इस के लिए उन्हें 1375 रुपये भुगतान करने पड़ सकते हैं। यह कीमत उन किसानों के लिए है जिन्हें सब्सिडी मिलेगी। वहीं सब्सिडी न मिलने पर इसकी कीमत अधिक हो जाएगी।

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!