दुनिया का एकमात्र मंदिर जहां पर महिलाओं के कपड़े पहनकर पुरुष करते हैं पूजा, फिर मिलती है सुंदर पत्नी और सरकारी नौकरी

भारत में अलग-अलग तरह के धर्मों के लोग रहते हैं जिस वजह से उन सभी की मान्यता भी अलग-अलग है। सनातन दुनिया का सबसे प्राचीन धर्म है जिसके मानने वालों की अधिकतर संख्या भारत में है, इस वजह से यहां पर हिंदू देवी-देवताओं के मंदिर की कोई कमी नहीं है।

Kottankulangara Devi Temple

भारत में कई ऐसे मंदिर मौजूद है जहां पर महिलाओं को जाना वर्जित है, इस वजह से कई बार उन धार्मिक स्थलों की चर्चा तेजी से होने लगती है। लेकिन आज हम एक ऐसे मंदिर के बारे में बात करने जा रहे हैं जहां पर पुरुषों को जाना मना है जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।

इस मंदिर में पुरुषों को जाना वर्जित है

हम जिस मंदिर के बारे में बात कर रहे हैं उसका नाम कोट्टनकुलंगरा देवी मंदिर है जो केरल में स्थित है। उस मंदिर में कोई भी पुरुष अंदर नहीं जा सकते हैं। इस वजह से वहां पर सिर्फ महिला और किन्नर को पूजा करने की अनुमति दी जाती है। अगर कोई पुरुष कोट्टनकुलंगरा देवी की पूजा करना चाहता है तो उन्हें पहले महिलाओं के कपड़े पहनकर तैयार होने होंगे, उसके बाद उन्हें वहां पर पूजा करने की अनुमति दी जाएगी।

कोट्टनकुलंगरा देवी मंदिर का इतिहास क्या है?

इस मंदिर के बारे में वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि बहुत समय पहले एक बार देवी मां खुद प्रकट हुई थी। लेकिन उस समय वहां पर सिर्फ जंगल हुआ करते थे, जिस वजह से पशु चराने वाले लोग जाते थे। इस वजह से उन्ही के द्वारा उस प्रतिमा को देखा गया, इसके अलावा उन्होंने अज्ञात प्रेरणावश देवी की पूजा महिलाओं के कपड़े पहनकर की। उसके बाद वहां पर मंदिर बना दिया गया और मान्यता रख दी गई कि वहां पर पुरुषों को जाना वर्जित है।

पुरुषों के लिए रखी गई है ये शर्त

इस मंदिर में कोट्टनकुलंगरा देवी की पूजा करने के लिए किसी भी आयु के पुरुष नहीं जा सकते हैं। वहीं जो पुरुष वहां पर पूजा करना चाहते हैं उन्हें कुछ शर्त माननी पड़ती है। उस मंदिर में पूजा करने के लिए पुरुषों को पहले महिलाओं के कपड़े पहनने पड़ते हैं, इसके अलावा उन्हें 16 श्रृंगार भी करने होते हैं। इस शर्त के बाद ही कोई पुरुष कोट्टनकुलंगरा देवी की पूजा कर सकता है।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें