भारत का एकमात्र राज्य जहां के लड़कों से शादी नहीं करना चाहती है लड़कियां, जानिए इसके पीछे की वजह

भारत के सभी राज्यों में लड़कों और लड़कियों के बीच शादी बड़े ही धूमधाम के साथ होती है, लेकिन इंडिया में एक ऐसा स्टेट भी है जहां की लड़कियां वहां के लड़कों से शादी करने में दिलचस्पी नहीं दिखाती है। अब आपके मन में इससे संबधित कई सवाल आ रहे होंगे।

Marriage

खेती करने वाले किसानों के लिए सूखा और बेमौसम बारिश एक बड़ी समस्या है। मगर आज हम आपको युवा किसान लड़कों की एक ऐसी समस्या के बारे में बताएंगे, जिससे आज वो काफी परेशान हैं। आपको बता दें कि आज-कल लड़कियां किसानों के बजाय फोर्थ ग्रेड कर्मचारियों के साथ शादी करने के लिए राजी हो जाती हैं। तो चलिए आज हम आपको इस आर्टिकल में इसके पीछे का कारण बताएंगे, जहां की लड़कियां वहां के लड़कों से शादी करने से पीछे हटती है।

युवा किसानों की समस्या

बेमौसम बारिश और सूखा बाढ़ की समस्या एक किसान के लिए आम है। उनके लाखों एकड़ की खेती प्राकृतिक आपदा की वजह से मिट्टी में मिल जाती है। किसान प्राकृतिक आपदा को अपने फसलों के लिए सबसे बड़ी चुनौती मानते हैं।

मगर इन दिनों किसानों के पास एक बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। आपको बता दें कि युवा किसानों की शादी नहीं हो रही है। आज-कल की लड़कियां किसानों से शादी करने के लिए तैयार नहीं हो रही हैं।

लगातार बढ़ती जा रही है यह समस्या

किसान तक की एक रिपोर्ट की मानें तो नासिक जिले में कलवन तालुका के बड़न गांव में यह समस्या बढ़ती जा रही है। बता दें कि कोई भी किसान अपनी बेटी की शादी खेती करने वाले लड़कों से नहीं करना चाहते हैं, क्योंकि उन्हें पता है कि किसानों का जीवन कितना संघर्षपूर्ण है।

लड़कियां भी उन्हीं लड़कों के साथ शादी करने के लिए हामी भरती है जिनके पास कोई नौकरी हो। आपको बता दें कि साल 2022 में महाराष्ट्र के सोलापुर के कई युवाओं इस समस्या से परेशान होकर तख्तियों पर “एक पत्नी चाहिए” लिखवाया और उसे लेकर गाजे-बाजे के साथ कलेक्टर ऑफिस पहुंच गए थे।

किसानों का यह कहना है कि खेती करने वाले युवा लड़कों की शादी न होने की समस्या पिछले कुछ सालों से बढ़ती जा रही है। खेती में कमाई काफी घटी है। फसलों की रेट में काफी गिरावट आई है। कई लोगों का कहना है कि वह खुद भी अपनी बेटियों की शादी उन लड़कों से नहीं करना चाहते हैं जो खेती करते हैं। किसानी से घर को अच्छी तरीके से संभलना काफी मुश्किल हो गया है।

फोर्थ ग्रेड कर्मचारियों से शादी करना चाहती है लडकियां

नेशनल सैंपल सर्वे ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार साल 2019 तक भारत के खेती करने वालों परिवार की औसत मासिक आय सिर्फ 10,218 रुपए थी। अगर हम इसकी तुलना फोर्थ ग्रेड के कर्मचारी से करते है तो वो भी इससे ज्यादा पैसे कमा लेते हैं। इसी को देखते हुए लड़कियां खेती करने वाले लड़कों से शादी करने को तैयार नहीं हो रही है।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें