ATM से पैसे निकालते समय इस बत्ती का रखें खास ध्यान, वरना मिनटों में खाली हो जाएगा बैंक अकाउंट

पैसे निकालने के लिए एटीएम (ATM) का उपयोग करना बेहद सुविधाजनक है। यह त्वरित, तत्काल और किसी भी समय सुलभ है। यह इतना सुविधाजनक है कि अधिकांश लोग लेनदेन करने के लिए निकटतम एटीएम पर जाने से पहले दो बार नहीं सोचते हैं।

ATM

हालांकि, एटीएम का उपयोग करना काफी सुरक्षित है, लेकिन कुछ मामले ऐसे भी सुनने को मिलते हैं, जहां एटीएम यूजर के साथ धोखाधड़ी की जाती है।

एटीएम फ्रॉड क्या है?

एटीएम धोखाधड़ी में आपके खाते और पिन नंबर की जानकारी प्राप्त करना शामिल है। आपके निकलते ही अपराधी एटीएम में घुस जाते हैं और उस जानकारी का उपयोग आपके खाते से पैसे उड़ा लेते हैं।

एटीएम फ्रॉड कैसे किया जाता है?

अब आपके मन में एक सवाल चल रहा होगा कि ATM फ्रॉड कैसे होता है? तो चलिए अब हम इसके बारे में सब कुछ जानते हैं:-

कार्ड स्किमर

ये कार्ड स्लॉट के ऊपर छोटे उपकरण होते हैं, जो आपके कार्ड से जानकारी प्राप्त करते हैं। आपका पिन नंबर प्राप्त करने के लिए एक छोटे कैमरे का उपयोग किया जाता है।

नकली कीपैड

इन्हें असली कीपैड के ऊपर रखा जाता है, और पिन नंबर प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है।

कार्ड ट्रैपिंग

आपके एटीएम कार्ड को बाहर निकलने से रोकने के लिए एक डिवाइस का उपयोग किया जाता है। अपराधी पिन प्राप्त करने के लिए पीड़ित के कंधे पर झाँक सकते हैं, ध्यान भंग कर सकते हैं, ताकि वह एटीएम से दूर चला जाए और नकदी निकाल ले।

कैश ट्रैपिंग

यहां, नकदी को संवितरित होने से रोका जाता है, और एटीएम उपयोगकर्ता के विचलित होने पर अपराधियों द्वारा हटा दिया जाता है।

ऐसे बचें एटीएम धोखाधड़ी से

एटीएम का उपयोग करते समय, चौकस रहना एक सामान्य नियम है। पैसे निकालते समय यूजर्स को सतर्क रहना चाहिए। यदि कोई आपका पीछा कर रहा है या कोई व्यक्ति अनुरोध करने पर भी एटीएम क्यूबिकल नहीं छोड़ता है, तो सलाह दी जाती है कि पैसे न निकालें।

उपयोगकर्ताओं को स्क्रीन के ठीक ऊपर जासूसी कैमरों की जांच करनी चाहिए, जो उंगलियों पर लक्षित होते हैं क्योंकि ये आपके पिन नंबर चुरा सकते हैं। उपयोगकर्ताओं को कार्ड स्लॉट में डाले गए ‘शिमर्स’ भी चेक करने चाहिये।

मशीन में कार्ड लगाने से पहले देखें कि स्लॉट की लाइट का कलर ग्रीन है या नहीं। अगर कलर ग्रीन है, तो ही कार्ड लगायें, लेकिन अगर बत्ती लाल रंग की है या फिर कोई लाइट ही नहीं जल रही है तो वहां कार्ड न डालें। इसके अलावा अगर स्लॉट ढीला है तो भी वहां कार्ड न डालें।

गोपनीयता बनाए रखें:

एटीएम के माध्यम से खातों तक पहुंचने के लिए पिन एक आवश्यक सुरक्षा उपाय है। इसकी गोपनीयता बनाए रखना उपयोगकर्ता की जिम्मेदारी है। कभी भी अपना एटीएम पिन किसी को न बताएं, चाहे वह व्यक्ति कितना भी भरोसेमंद क्यों न हो। स्कैमर अब दबाए गए अंकों को ट्रैक करने के लिए एक पिन पैड ओवरले सिस्टम लेकर आए हैं। आपके पिन को कैप्चर करने के लिए मूल पिन पैड के ऊपर एक सिलिकॉन पैड रखा गया है।

इसलिए, पिन नंबरों भरते समय उपयोगकर्ताओं को कीपैड को दूसरे हाथ से कवर कर लेना चाहिए, ताकि कैमरा अनुक्रम को रिकॉर्ड न करे। रसीद को किसी भी धोखाधड़ी से बचाने के लिए सहेज कर रखा जाना चाहिए।

एटीएम का निरीक्षण:

सुरक्षित रहने का एक और प्रभावी तरीका एटीएम की पूरी तरह से जांच करना है। यह समय लेने वाला हो सकता है, लेकिन यह नुकसान से सुरक्षा प्रदान करेगा। बदमाश स्किमर्स का इस्तेमाल करते हैं, जो किसी भी इनपुट को रिकॉर्ड कर सकते हैं। उन्हें अवैध रूप से एटीएम में डाल दिया जाता है। डिवाइस कार्ड स्लॉट या कीपैड से जुड़े होते हैं। कभी-कभी, स्किमर्स नकदी को रोकने के लिए काफी उन्नत होते हैं। पिन नंबर दर्ज करने से पहले उपयोगकर्ताओं को मशीन, कार्ड स्लॉट और कीपैड की सावधानीपूर्वक जांच करनी चाहिए।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें