क्या आप भी गैस और कब्ज की समस्या से परेशान है? तो आज ही बंद कर दें इन चीजों का सेवन करना

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

ज्यादातर लोग गैस और कब्ज की समस्या से परेशान होते हैं। ये ऐसी समस्या है, जो हमारे पूरे दिन की रूटीन को प्रभावित करती है। गैस पाचन तंत्र में हवा निगलने और भोजन के टूटने के कारण होती है। इसके परिणाम आमतौर पर डकार आना, फूला हुआ महसूस करना या गैस निकलना है।

gas and constipation

अगर आप भी बहुत अधिक गैस और पेट फूलने का अनुभव कर रहे हैं, तो अपने आहार में बदलाव करने से मदद मिल सकती है। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने वाले हैं, जिनकी वजह से गैस और कब्ज की समस्या होती है। साथ ही हम आपको इस समस्या के समाधान के लिये कुछ घरेलू नुस्खों से भी अवगत करायेंगे।

इन चीजों के सेवन से हो सकती है गैस और कब्ज की समस्या

बीन्स, डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे दूध या दूध से बनी चीजें, साबुत अनाज, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, गोभी, शतावरी और फूलगोभी जैसी कुछ सब्जियां, सोडा, हार्ड कैंडी, प्याज और मूली। ये कुछ खाने की चीजें हैं, जिनसे गैस बन सकती है और कभी कभी कब्ज की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

गैस और कब्ज की समस्या दूर करने के घरेलू नुस्खे

नींबू

नींबू वजन घटाने, त्वचा की देखभाल, उचित पाचन, आंखों की देखभाल, पेप्टिक अल्सर, श्वसन संबंधी विकार आदि जैसी कई समस्याओं का इलाज है। नींबू का रस कब्ज मं काफी लाभकारी हो सकता है।

अंजीर

अंजीर में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है और एक प्राकृतिक रेचक के रूप में कार्य करते हैं। अंजीर एंथोसायनिन और पॉलीफेनोल्स (2) से भरपूर होते हैं।

इसका उपयोग गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और सूजन संबंधी विकारों के लिए पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता है। पुरानी कब्ज से पीड़ित लोगों को अपने आहार में अंजीर को शामिल करना चाहिए। कब्ज के इलाज के लिए ताजे और सूखे दोनों तरह के अंजीर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

अरंडी का तेल

एक उत्तेजक रेचक होने के नाते, अरंडी का तेल छोटी और बड़ी आंतों को उत्तेजित करता है और मल त्याग में सुधार करता है। अरंडी के तेल के रासायनिक घटक फ्लेवोनोइड्स, फैटी एसिड, अमीनो एसिड, टेरपेनोइड्स, फेनोलिक यौगिक, फाइटोस्टेरॉल आदि हैं। ये यौगिक इसके विरोधी भड़काऊ, एंटीऑक्सिडेंट और हेपेटोप्रोटेक्टिव प्रभावों के लिए जिम्मेदार हैं।

शहद

शहद का रेचक प्रभाव शरीर में फ्रुक्टोज के अधूरे अवशोषण के कारण होता है। कब्ज को रोकने के साथ-साथ इलाज के लिए आप इसे रोजाना ले सकते हैं। कच्चा, जैविक, स्थानीय शहद सबसे पसंदीदा शहद है। दिन में तीन बार दो चम्मच शहद का सेवन करें। आप एक गिलास गर्म पानी में एक-एक चम्मच शहद और नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इसे रोज सुबह खाली पेट पिएं।

पालक

यह फाइबर और ऑक्सालिक एसिड से भरपूर होता है। पालक कैल्शियम और फास्फोरस से भरपूर होता है। अन्य सब्जियों में पालक में उच्च विटामिन सामग्री होती है। कब्ज से छुटकारा पाने के लिए आप अपने आहार में पालक को जरूर शामिल करें। यदि आपको गंभीर कब्ज है, तो आधा गिलास कच्चे पालक का रस और आधा गिलास पानी मिलाकर दिन में दो बार पियें। कुछ ही दिनों में आपको काफी राहत मिलेगी।

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!