Shaligram Stone: जल्द धनवान बनना है तो आज ही से शुरू करें शालिग्राम की पूजा, जानिए इसके 4 फायदे

Shaligram Stone: इस वक्त सोशल मीडिया पर शालीग्राम के पत्थरों की खूब चर्चा हो रही है। ये दुर्लभ चट्टानें जिनसे भगवान राम की मूर्ति को तराश कर राम मंदिर के गर्भगृह में रखा जाएगा, बुधवार देर रात उत्तर प्रदेश के अयोध्या पहुंचीं है।

Shaligram Stone

शालिग्राम शिला नेपाल में गंडकी नदी की एक सहायक नदी काली गंडकी के नदी के किनारे या किनारों से एकत्रित पत्थर की एक विशेष किस्म है। वे आम तौर पर 400 से 66 मिलियन वर्ष पूर्व के देवोनियन-क्रेटेशियस काल के अम्मोनीट गोले के जीवाश्म हैं। शालीग्राम का महत्व हिंदु धर्म में काफी ज्यादा है, क्योंकि माधवाचार्य ने इसे व्यास से प्राप्त किया था, जिसे अष्टमूर्ति भी कहा जाता है, और वे विष्णु से जुड़े प्रतीकों, मुख्य रूप से शंख (शंख) से मिलते जुलते हैं।

शलीग्राम की इन चट्टानों को नेपाल से लाया गया है। यह बड़ी भक्ति के साथ अयोध्या में पत्थरों का स्वागत किया गया था। इन पत्थरों से ऐतिहासिक राम मंदिर में भगवान राम और मां सीता की मूर्तियां बनायी जायेंगी, जिनकी आने वाली पीढ़ियों द्वारा अनंत काल तक पूजा की जाएगी।

जानकारी के अनुसार आज पवित्र नगरी के संत देव शिलाओं का अभिनंदन व लोकार्पण करेंगे। शालिग्राम एक जीवाश्म काले या गहरे भूरे रंग की चट्टान है, जिसे भगवान विष्णु के हिंदू भक्तों द्वारा पवित्र माना जाता है।

शालिग्राम के पत्थर को हिंदू धर्म के लोग अपने घरों के मंदिर में रख कर पूजते हैं। मान्यता है कि इससे अपार धन सहित कई लाभ प्राप्त होते हैं। आज के इस लेख में हम आपको शालिग्राम को घर में रखने के फायदों के बारे में बताने वाले हैं।

शालिग्राम शिला की पूजा करने के चार विशेष लाभ

  • माना जाता है कि शालिग्राम सिला की पूजा एक भक्त को उनके पिछले जीवन के पापों से शुद्ध करती है। पुराणों में कहा गया है कि शालिग्राम की पूजा करने से भौतिक सुख, लंबी आयु, अच्छा स्वास्थ्य और सफलता मिल सकती है।
  • माना जाता है कि शालिग्राम को घर में रखने और उसकी पूजा करने से मन की शांति, मानसिक स्पष्टता और शांत आचरण प्राप्त होता है। शालिग्राम की पूजा करने से आत्मविश्वास भी मिलता है, नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षा मिलती है, और अच्छा स्वास्थ्य, धन, समृद्धि, एक अच्छा जीवनसाथी और संतान की प्राप्ति होती है।
  • पद्म पुराण और स्कंद पुराण के अनुसार, शालिग्राम की भक्ति आध्यात्मिक उत्थान की ओर ले जा सकती है और अंततः वैकुंठ या मोक्ष प्राप्त करने के लिए जीवन और मृत्यु के चक्र को तोड़ सकती है।
  • यह भी कहा जाता है कि शालिग्राम बाधाओं को दूर करने और इच्छाओं की पूर्ति में मदद करता है। माना जाता है कि शालिग्राम को नहलाने के बाद उसके पानी को पीने से बीमारियों से राहत मिलती है और मरने वालों को शांति मिलती है।
error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें