SBI, HDFC, PNB और ICICI बैंक ने लोगों को दिया झटका, अब ATM से पैसे निकालने पर देना होगा इतना चार्ज

ऐसे देश में जहां सुविधा आधुनिक बैंकिंग से मिलती है, सभी सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैंक अपने ग्राहकों को हर महीने एटीएम से एक निश्चित राशि मुफ्त में निकालने का विशेषाधिकार प्रदान करते हैं।

ATM Cash Withdrawal Charges

हालाँकि, यदि कोई ग्राहक एक महीने के भीतर इस पूर्व निर्धारित सीमा को पार कर जाता है, तो प्रत्येक बाद के एटीएम निकासी पर अतिरिक्त शुल्क लगाया जाता है। आइए विस्तार से जानें कि भारत में विभिन्न बैंक एटीएम लेनदेन शुल्क और सीमा को कैसे संभालते हैं।

भारत में एटीएम लेनदेन परिदृश्य

आधुनिक बैंकिंग ने नकदी तक पहुंच को एक आसान प्रयास बना दिया है। अधिकांश भारतीय बैंक अपने ग्राहकों को हर महीने एक निश्चित संख्या में मुफ्त एटीएम निकासी की अनुमति देते हैं। लेकिन जब यह सीमा पार हो जाती है तो क्या होता है? आइए बारीकियों का पता लगाएं।

आरबीआई का निर्देश

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के हालिया निर्देशों के अनुरूप, प्रत्येक बैंक को अपनी मासिक मुफ्त निकासी सीमा से अधिक किसी भी ग्राहक पर न्यूनतम ₹21 शुल्क लगाना अनिवार्य है। इस उपाय का उद्देश्य एटीएम के उपयोग को संतुलित करना और ग्राहकों के बीच उचित वितरण सुनिश्चित करना है।

मासिक सीमाएँ और उससे आगे

अधिकांश भारतीय बैंकों के लिए, ग्राहकों को एक महीने के भीतर एटीएम के माध्यम से 5 अतिरिक्त मुफ्त लेनदेन करने की अनुमति है, बशर्ते वे पूर्वनिर्धारित निकासी सीमा के भीतर रहें। यह ध्यान रखना आवश्यक है कि यह सीमा केवल एक महीने के लिए लागू है।

बैंक विवरण

आइए देखें कि कुछ प्रमुख भारतीय बैंक एटीएम लेनदेन शुल्क का प्रबंधन कैसे करते हैं :-

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) :- पीएनबी अपने ग्राहकों को मेट्रो और छोटे शहरों में अपने एटीएम पर प्रति माह 5 मुफ्त लेनदेन की पेशकश करके सबसे आगे है। हालाँकि, मुफ्त लेनदेन के बाद, किसी भी अतिरिक्त नकद निकासी या पिन परिवर्तन पर ₹10 का शुल्क लगेगा।

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) :- भारतीय स्टेट बैंक अपने ग्राहकों को ₹25,000 से अधिक शेष राशि वाले खाताधारकों को अपने एटीएम पर प्रति माह 5 मुफ्त लेनदेन की सुविधा देता है। इस सीमा से अधिक के किसी भी लेनदेन के लिए, प्रत्येक बाद की निकासी के लिए ₹10 का शुल्क लगाया जाता है। इस संदर्भ में वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है।

आईसीआईसीआई (ICICI) :- आईसीआईसीआई बैंक हर महीने 3 मुफ्त एटीएम लेनदेन का उदार भत्ता प्रदान करता है। इस सीमा के बाद, गैर-वित्तीय लेनदेन पर प्रति लेनदेन ₹8.5 का शुल्क लिया जाता है, जबकि वित्तीय लेनदेन पर ₹21 का शुल्क लगता है।

एचडीएफसी (HDFC) :- एचडीएफसी बैंक की नीति अपने ग्राहकों को मासिक रूप से 5 मुफ्त एटीएम लेनदेन की सुविधा देती है। इसके बाद, गैर-वित्तीय लेनदेन पर ₹8.5 का शुल्क लगेगा, जबकि वित्तीय लेनदेन पर ₹21 का शुल्क लगेगा।

आपके एटीएम लेनदेन को अधिकतम करना

अपने एटीएम लेनदेन का अधिकतम लाभ उठाने और अनावश्यक शुल्कों से बचने के लिए, अपनी मासिक निकासी पर नज़र रखना और अपने मुफ्त लेनदेन का विवेकपूर्ण तरीके से उपयोग करना बुद्धिमानी है। अपने बैंक की विशिष्ट नीतियों और सीमाओं के बारे में सूचित रहने से आपको अपने नकदी प्रबंधन को प्रभावी ढंग से अनुकूलित करने में मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष

डिजिटल युग में जहां सुविधा सर्वोपरि है, एटीएम लेनदेन हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। चूंकि भारत में विभिन्न बैंक अलग-अलग शुल्क और सीमाएं लागू करते हैं, इसलिए इन विवरणों से अवगत होने से ग्राहकों को वित्तीय रूप से मजबूत निर्णय लेने में मदद मिलती है। एटीएम लेनदेन से जुड़े नियमों और विनियमों को समझकर, आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपका बैंकिंग अनुभव सुचारू और लागत प्रभावी बना रहे।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें