12 साल बाद वापसी करने वाले इस खिलाड़ी के साथ लगातार हो रही नाइंसाफी, कप्तान रोहित कर रहे संन्यास लेने पर मजबूर

भारतीय क्रिकेट टीम इन दिनों ऑस्ट्रेलिया के साथ वर्ल्ड कप टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला इंग्लैंड में खेल रही है। उस मैच में टीम इंडिया का प्रदर्शन पहले दिन कुछ खास नहीं रहा है, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया की टीम पहले दिन सिर्फ तीन विकेट खोकर 327 रन जड़ दिए।

Team India Test

टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा इस मुकाबले में कई गलतियां करते दिखे हैं जिस वजह से कंगारू टीम पहले दिन मजबूत स्थिति में पहुंच गई। इस मुकाबले के लिए भारतीय टीम में एक ऐसे खिलाड़ी का चयन हुआ है जिन्होंने पिछले 12 सालों के बाद वापसी किया है, लेकिन फिर भी कप्तान रोहित शर्मा ने उन्हें प्लेइंग में मौका नहीं दिया।

इस खिलाड़ी को रोहित ने नहीं दिया मौका

भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फाइनल मुकाबले में टोटल चार तेज गेंदबाजों को प्लेइंग इलेवन में जगह दी है, जिसमे मोहम्मद शमी, मोहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर और उमेश यादव का नाम शामिल है। लेकिन जयदेव उनादकट को खेलने का मौका नहीं दिया, इस वजह से वो बेंच पर बैठे हुए हैं।

12 साल बाद टेस्ट में मिला था मौका

जयदेव उनादकट एक तेज गेंदबाज है जिन्होंने भारत के लिए साल 2010 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। उसके 12 सालों के बाद पिछले वर्ष दिसंबर में बांग्लादेश के विरुद्ध उन्हें टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका दिया गया था, जिसमे उन्होंने तीन विकेट चटकाया था। लेकिन अब उनादकट को फिर टीम से बाहर दिखाया जा रहा है।

टेस्ट क्रिकेट से ले सकता है संन्यास

31 वर्षीय जयदेव उनादकट भारत के लिए अब तक सिर्फ दो टेस्ट मैच खेले हैं जिसमे उन्होंने 56 की औसत से तीन विकेट अर्जित किया है। पिछले कुछ समय से उनादकट घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं, इसी वजह से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले के लिए उन्हें टीम में मौका दिया गया है। लेकिन कप्तान रोहित शर्मा लगातार उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं। यदि आगे भी उनादकट के साथ ऐसा ही होता है तो उन्हें मजबूरन टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहना पड़ सकता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें