RBI ने देश के इन बैंकों को दिया आदेश, अब इस काम में ग्राहकों को नहीं देना पड़ेगा पेनल्टी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के हालिया फैसले से आम जनता को राहत मिली है। आरबीआई ने बैंकों को एक खास मामले पर जुर्माना लगाने से हतोत्साहित किया है, जिससे आम लोगों को फायदा होने की उम्मीद है।

RBI

आरबीआई ने लाखों व्यक्तियों को लाभ पहुंचाने वाले कदम के तहत ऋण खातों पर जुर्माने और ब्याज दरों से संबंधित नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं। केंद्रीय बैंक ने लोन खातों पर जुर्माना लगाने पर रोक लगा दी है। साथ ही आरबीआई ने संकेत दिया है कि ये नए नियम अगले साल से लागू किए जाएंगे। यह नया नियम वाणिज्यिक बैंकों, एनबीएफसी, सहकारी बैंकों, हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों, नाबार्ड और सिडबी सहित सभी बैंकों पर लागू होगा।

HDFC, SBI, ICICI – ग्राहकों के लिए अलर्ट

1 सितंबर से एक महत्वपूर्ण नियम परिवर्तन प्रभावी होगा, जिसका एचडीएफसी, एसबीआई और आईसीआईसीआई जैसे प्रमुख बैंकों के ग्राहकों पर काफी प्रभाव पड़ेगा।

दंडात्मक ब्याज से निपटने के लिए आरबीआई की पहल

भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) द्वारा अपने राजस्व को बढ़ाने के साधन के रूप में ‘दंडात्मक ब्याज’ का उपयोग करने की प्रवृत्ति पर चिंता व्यक्त की है। इसके जवाब में केंद्रीय बैंक ने संशोधित नियम जारी किये हैं। नए नियमों के तहत, ऋण भुगतान में चूक के मामलों में, बैंक अपने ग्राहकों पर केवल ‘उचित’ दंडात्मक शुल्क लगा सकते हैं। ये नियम 1 जनवरी, 2024 से लागू होंगे।

नए नियमों की महत्वपूर्ण विशेषताएं

आरबीआई ने निर्दिष्ट किया है कि ऋण लेने वाले व्यक्ति जो ऋण समझौते की शर्तों का पालन करने में विफल रहते हैं, वे ‘दंडात्मक शुल्क’ के अधीन हो सकते हैं। हालाँकि, इन शुल्कों को दंडात्मक ब्याज नहीं माना जाएगा। दंडात्मक शुल्क बैंकों द्वारा एकत्र किए गए अग्रिम भुगतान का हिस्सा होगा और नियमित ब्याज दरों के अतिरिक्त होगा। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आरबीआई इस बात पर जोर देता है कि ये दंडात्मक शुल्क उचित होने चाहिए और किसी विशिष्ट ऋण या उत्पाद श्रेणी के प्रति पक्षपाती नहीं होने चाहिए।

अतिरिक्त ब्याज की गणना

अधिसूचना स्पष्ट करती है कि दंडात्मक आरोपों पर कोई पूंजीकरण लागू नहीं किया जाएगा। ऐसे शुल्कों पर अतिरिक्त ब्याज की गणना नहीं की जाएगी। फिर भी, केंद्रीय बैंक के निर्देश क्रेडिट कार्ड, बाहरी वाणिज्यिक उधार, व्यापार क्रेडिट आदि पर लागू नहीं होंगे। आरबीआई का कहना है कि दंडात्मक ब्याज/शुल्क लगाने के पीछे का उद्देश्य उधारकर्ताओं के बीच अनुशासन स्थापित करना है और इसे राजस्व के रूप में उपयोग नहीं करना है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें