SBI ने किया बड़ा ऐलान, अब ग्राहकों को मिलेगा इस स्कीम का लाभ, पढ़िए पूरी डिटेल

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) भारत का सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक है, जिसका स्वामित्व सरकार के पास है। 1 जुलाई, 1955 को स्थापित, एसबीआई देश का सबसे पुराना और अग्रणी वित्तीय संस्थान है। अपनी विश्वसनीयता, सुरक्षा और उच्च गुणवत्ता वाली सेवा के लिए जाना जाने वाला एसबीआई बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है जो अपने ग्राहकों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करता है।

SBI Bank News

एसबीआई की शाखाएं और स्वचालित टेलर मशीनें (एटीएम) विभिन्न शहरों और कस्बों में फैली हुई हैं, जो एक व्यापक सेवा नेटवर्क सुनिश्चित करती हैं। एसबीआई का मुख्य उद्देश्य ग्राहकों को सर्वोत्तम सेवा प्रदान करना और उनकी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करना है।

एसबीआई का उल्लेखनीय वित्तीय प्रदर्शन

हालिया घटनाक्रम में, देश के सबसे बड़े सरकारी स्वामित्व वाले बैंक, एसबीआई ने असाधारण वित्तीय प्रदर्शन हासिल किया है। एसबीआई ने घोषणा की कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में उसका शुद्ध लाभ दोगुना से अधिक होकर 16,884 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। लाभप्रदता में इस उल्लेखनीय वृद्धि के साथ-साथ बैंक के शेयर मूल्य में भी वृद्धि हुई है, जो 2.93% चढ़कर 573.20 रुपये पर पहुंच गया।

एसबीआई के उत्कृष्ट प्रदर्शन में योगदान देने वाले कारक

एसबीआई अपने बेहतर प्रदर्शन का श्रेय गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) में कमी और ब्याज आय में वृद्धि को देता है। 2022-23 की अप्रैल-जून तिमाही के दौरान, एसबीआई ने 6,068 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया। इसके अलावा, 2023-24 की पहली तिमाही में बैंक की कुल आय बढ़कर 1,08,039 करोड़ रुपये हो गई, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 74,989 करोड़ रुपये थी।

ब्याज आय में वृद्धि

एसबीआई की ब्याज आय में पर्याप्त वृद्धि देखी गई, बैंक ने समीक्षाधीन तिमाही में 95,975 करोड़ रुपये की कमाई की, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान यह 72,676 करोड़ रुपये थी। जून 2023 के अंत तक, बैंक की सकल गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) अनुपात 2.76% था, जो एक साल पहले 3.91% से कम था।

गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में कमी

इसी तरह, जून 2023 में शुद्ध एनपीए अनुपात घटकर 0.71% हो गया, जो पिछले वर्ष में 1% था। समीक्षाधीन अवधि के दौरान, एसबीआई का समेकित शुद्ध लाभ दोगुना से अधिक बढ़कर 18,537 करोड़ रुपये हो गया, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 7,325 करोड़ रुपये था।

कुल आय में वृद्धि

इस वर्ष की पहली तिमाही में बैंक की कुल आय में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, जो कि 1,32,333 करोड़ रुपये थी, जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की इसी अवधि में यह 94,524 करोड़ रुपये थी। इसके अलावा, एसबीआई ने जून के दौरान अपने गैर-जीवन बीमा उद्यम, एसबीआई जनरल इंश्योरेंस में 489.67 करोड़ रुपये और आठ क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबी) में 82.16 करोड़ रुपये का निवेश किया।

हाल की तिमाहियों में एसबीआई का असाधारण वित्तीय प्रदर्शन अपने ग्राहकों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने और उत्कृष्ट सेवा प्रदान करने की उसकी प्रतिबद्धता का उदाहरण है। एनपीए में कमी और ब्याज आय में वृद्धि ने बैंक की लाभप्रदता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। एक मजबूत सेवा नेटवर्क और ग्राहक-केंद्रित दृष्टिकोण के साथ, एसबीआई भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में खुद को एक विश्वसनीय संस्थान के रूप में स्थापित करना जारी रखे हुए है।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें