Indian Railway: भारतीय रेलवे ने की बड़ी घोषणा, अब ट्रेन से कर पाएंगे विदेश की यात्रा, पहली इंटरनेशनल ट्रेन सर्विस हुई शुरू

Indian Railway: भारतीय रेलवे ने हाल ही में एक अभूतपूर्व विकास की घोषणा की है जिससे यात्रियों को लाभ होगा और भारत और भूटान के बीच पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। कनेक्टिविटी बढ़ाने और सीमा पार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए, भारतीय रेलवे भारत और भूटान के बीच अंतरराष्ट्रीय ट्रेन सेवाएं शुरू करने की योजना बना रहा है।

Indian Railway

विदेश मंत्रालय के नेतृत्व में इस पहल का उद्देश्य भारतीय राज्य असम और भूटान के बीच रेल लिंक बनाना है, जिससे अन्वेषण और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के नए रास्ते खुलेंगे।

पर्यटन को आगे बढ़ाना

इस प्रयास में हुई प्रगति से विशेषकर पर्यटन क्षेत्र में उत्साह बढ़ा है। विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने भूटानी पर्यटकों की यात्रा आकांक्षाओं को सुविधाजनक बनाने के लिए अपनी उत्सुकता व्यक्त की। एएनआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जयशंकर ने कहा, “हम भूटान और असम के बीच रेल लिंक को लेकर चर्चा कर रहे हैं। हम भूटानी पर्यटकों के लिए और अधिक प्वाइंट खोलने के लिए बहुत उत्सुक हैं, जो असम के लिए भी अच्छा है।”

यह रेल लिंक, पूरा होने पर, भारत और भूटान के बीच पहला रेलवे कनेक्शन होगा। इस परियोजना के 2026 तक पूरी तरह से चालू होने की उम्मीद है। इस साल अप्रैल में, भूटान के विदेश मंत्री डॉ. टांडी दोरजी ने खुलासा किया कि भूटानी सरकार इस पहल पर सहयोग करने का इरादा रखती है, जिसमें अन्य क्षेत्रों में रेल कनेक्टिविटी का विस्तार करने की योजना है।

निर्माण की प्रगति और भविष्य की संभावनाएँ

इस घोषणा से पहले, भूटान लाइव ने बताया कि भारत और भूटान के बीच रेलवे लिंक के निर्माण के लिए सर्वेक्षण अप्रैल 2023 में पूरा हो गया था। रेलवे लिंक भूटान में गेलेफू को भारत के असम में कोकराझार से जोड़ेगा। भारत सरकार असम के साथ रेलवे कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए भूटान के साथ सक्रिय रूप से चर्चा में लगी हुई है।
भारत और भूटान के बीच अंतर्राष्ट्रीय ट्रेन सेवा की शुरुआत भारतीय रेलवे के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। यह द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करेगा, पर्यटन को बढ़ावा देगा और दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाएगा।

निष्कर्ष

भारत और भूटान के बीच अंतर्राष्ट्रीय ट्रेन सेवाओं की शुरूआत भारतीय रेलवे की प्रगति में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। विदेश मंत्रालय द्वारा संचालित इस पहल का उद्देश्य कनेक्टिविटी बढ़ाना, पर्यटन को बढ़ावा देना और दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करना है। इस परियोजना के 2026 तक पूरा होने की उम्मीद है, जिससे यात्रियों के लिए नए रास्ते खुलेंगे और सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा मिलेगा। बेहतर कनेक्टिविटी, उन्नत पर्यटन और आर्थिक विकास के साथ, अंतर्राष्ट्रीय ट्रेन सेवा भारत और भूटान दोनों के लिए उज्जवल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने के लिए तैयार है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें