Income Tax Notice: कैश में भूलकर भी ना करें ये 5 काम, वरना इनकम टैक्स का मिलेगा नोटिस

Income Tax Notice: आज के वित्तीय परिदृश्य में, नकद लेनदेन करना, विशेष रूप से बड़े लेनदेन, आयकर विभाग पर कुछ सवाल उठा सकते हैं। लेन-देन के लिए नकदी का उपयोग सुविधाजनक लग सकता है, लेकिन यह जानना महत्वपूर्ण है कि महत्वपूर्ण नकद लेनदेन कर अधिकारियों का ध्यान आकर्षित कर सकते हैं, जिससे संभावित रूप से आयकर नोटिस मिल सकता है।

Income Tax Notice

यह लेख पांच ऐसे लेनदेन की पड़ताल करता है जो संभावित रूप से आपको आयकर विभाग की जांच के दायरे में ला सकते हैं। इस वजह से यह लेख पूरा पढ़िए, ताकि आप इनकम टैक्स विभाग की नजर में आने से बच सके, अन्यथा आपके घर नोटिस पहुंच जाएगा।

1. बैंक में नगद FD करना

यदि आप बार-बार सावधि जमा में नकद जमा करते हैं और एक वित्तीय वर्ष में कुल राशि 10 लाख रुपये से अधिक है, तो बैंक आयकर विभाग को सूचित करने के लिए बाध्य है। धन के स्रोत के संबंध में संभावित पूछताछ से बचने के लिए बड़ी राशि के लिए ऑनलाइन जमा या चेक पर विचार करने की सलाह दी जाती है।

2. बैंक खातों में नकद जमा

एफडी के समान, यदि आप अपने खातों में पर्याप्त नकदी जमा करते हैं तो बैंकों या सहकारी बैंकों द्वारा आयकर विभाग को सूचित किया जाना चाहिए। एक वित्तीय वर्ष में एक खाते या एकाधिक खातों में 10 लाख रुपये से अधिक जमा करने पर धन के स्रोत के बारे में पूछताछ हो सकती है।

3. क्रेडिट कार्ड बिलों के लिए नकद भुगतान

क्रेडिट कार्ड बिलों का नकद भुगतान करना भी कर अधिकारियों का ध्यान आकर्षित कर सकता है। यदि आप एक वित्तीय वर्ष में 1 लाख रुपये से अधिक का एकल भुगतान या कुल 10 लाख रुपये या उससे अधिक का एकाधिक भुगतान करते हैं, तो आयकर विभाग इन निधियों के स्रोत के बारे में पूछताछ कर सकता है। जब भी संभव हो ऐसे लेनदेन के लिए गैर-नकद तरीकों का उपयोग करना बुद्धिमानी है।

4. संपत्ति लेनदेन

संपत्ति रजिस्ट्रार कार्यालय को महत्वपूर्ण नकद लेनदेन की रिपोर्ट आयकर विभाग को देनी होती है। यदि आप नकदी का उपयोग करके संपत्ति खरीदते या बेचते हैं, और लेनदेन की राशि 30 लाख रुपये या उससे अधिक है, तो यह जानकारी कर अधिकारियों के साथ साझा की जाती है। ऐसे लेनदेन के लिए धन के स्रोत की व्याख्या करने के लिए तैयार रहें।

5. शेयर, म्यूचुअल फंड, डिबेंचर और बॉन्ड में निवेश

शेयर, म्यूचुअल फंड, डिबेंचर और बॉन्ड जैसे निवेश से संबंधित पर्याप्त नकद लेनदेन में संलग्न होना भी ध्यान आकर्षित कर सकता है। आयकर विभाग एक वित्तीय वर्ष के भीतर इन उपकरणों में नकद लेनदेन को अधिकतम 10 लाख रुपये तक सीमित करता है। इसलिए, यदि आप निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो गैर-नकद तरीकों का उपयोग करने पर विचार करें।

निष्कर्ष

तेजी से बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था में, उच्च मूल्य वाले नकद लेनदेन में संलग्न होने के बारे में सतर्क रहना आवश्यक है। हालांकि नकदी सुविधाजनक लग सकती है, लेकिन इससे आयकर विभाग को धन के स्रोत के बारे में पूछताछ करनी पड़ सकती है। संभावित परेशानियों से बचने के लिए, महत्वपूर्ण लेनदेन और निवेश के लिए इलेक्ट्रॉनिक भुगतान विधियों का उपयोग करने पर विचार करें।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें