अगर नोट पर कुछ लिख दिया जाए तो क्या वो पैसा चलेगा? जानिए इस पर RBI क्या कहता है?

हाल के दिनों में, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक वायरल संदेश प्रसारित हो रहा है जिसमें दावा किया गया है कि बैंक नोटों पर लिखने से वे अमान्य हो जाते हैं। इससे किसी भी प्रकार के लेखन वाले बैंक नोटों की वैधता के बारे में जनता के बीच भ्रम और चिंता पैदा हो गई है। इन ग़लतफ़हमियों को दूर करने के लिए, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने लिखावट या निशान वाले बैंक नोटों की स्वीकार्यता के संबंध में स्पष्टीकरण प्रदान किया है।

RBI

वायरल दावे से पता चलता है कि अमेरिकी डॉलर के समान बैंक नोटों पर लिखने से वे अमान्य हो जाते हैं। इस गलत सूचना ने लोगों के बीच बहस और चर्चा छेड़ दी है, जिससे किसी भी प्रकार के लेखन के साथ बैंक नोटों की वैधता पर सवाल उठ रहे हैं। हालाँकि, तथ्य को कल्पना से अलग करना और इस दावे के पीछे की सच्चाई को समझना आवश्यक है।

आरबीआई फैक्ट चेक: लिखे हुए बैंकनोट वैध हैं

एक आधिकारिक सरकारी एजेंसी, प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) फैक्ट चेक ने इस वायरल दावे को संबोधित किया है और किसी भी भ्रम को दूर करने के लिए सटीक जानकारी प्रदान की है। पीआईबी फैक्ट चेक के मुताबिक, जिन बैंक नोटों पर लिखावट है, उन्हें अमान्य नहीं माना जाता है और वे भारत में वैध मुद्रा बने रहेंगे। आरबीआई के पास ऐसे कोई विशिष्ट नियम या विनियम नहीं हैं जो लिखे हुए बैंकनोटों को अमान्य मानते हों।

स्वच्छ नोट नीति: बैंक नोटों की गुणवत्ता का संरक्षण

हालाँकि बैंक नोटों पर लिखने से वे अमान्य नहीं हो जाते, आरबीआई के पास स्वच्छ नोट नीति है। यह नीति व्यक्तियों को करेंसी नोटों पर न लिखने के लिए प्रोत्साहित करती है क्योंकि इससे नोट ख़राब हो जाते हैं और उनका जीवनकाल कम हो जाता है। स्वच्छ नोट नीति का उद्देश्य प्रचलन में बैंक नोटों की गुणवत्ता और स्थायित्व को बनाए रखना है।

बैंक नोट और सार्वजनिक धारणा

व्यक्तियों के लिए उन्हें मिलने वाले बैंक नोटों की स्थिति के बारे में सतर्क रहना कोई असामान्य बात नहीं है। कुछ लोग किसी भी प्रकार के लेखन या चिह्न वाले बैंक नोटों को स्वीकार करने से इनकार कर सकते हैं, यह मानते हुए कि वे अब वैध नहीं हैं। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह धारणा आरबीआई द्वारा निर्धारित किसी आधिकारिक दिशानिर्देश या विनियम पर आधारित नहीं है।

ग़लत सूचना

वायरल दावे को और अधिक खारिज करने के लिए, यह समझना महत्वपूर्ण है कि बैंक नोटों पर, जैसे कि पेन से लिखना, उन्हें अमान्य नहीं करता है। भले ही उन पर कुछ भी लिखा हो, बैंकनोट अपना मूल्य और कानूनी मुद्रा स्थिति बनाए रखते हैं। इसलिए, अगर आपके पास लिखा हुआ कोई बैंकनोट आता है, तो घबराने नहीं या उसे अस्वीकार करने की कोई जरूरत नहीं है।

सोशल मीडिया का प्रभाव

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सटीक और गलत दोनों तरह की जानकारी फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालाँकि, स्रोतों की विश्वसनीयता को सत्यापित करना और सटीक जानकारी के लिए आधिकारिक चैनलों से परामर्श करना आवश्यक है। लिखित रूप से बैंक नोटों की वैधता के संबंध में आरबीआई के स्पष्टीकरण से इस मामले के बारे में किसी भी चिंता या गलतफहमी को दूर करने में मदद मिलेगी।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें