अगर लोन लेने के तुरंत बाद उस शख्स की मृत्यु हो जाती है तो लोन का सारा पैसा किसे भरना पड़ेगा? जानिए इसके नियम

बहुत से लोग अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंकों से कर्ज लेते हैं। लोन कई प्रकार के होते हैं, जैसे पर्सनल लोन, कार लोन, होम लोन आदि। कर्ज लेने वाले को लोन किस्तों में चुकाना होता है। हालाँकि, कभी-कभी कर्ज़दार की अप्रत्याशित रूप से मृत्यु हो जाती है।

Loan Rules

ऐसे में कई सवाल उठते हैं – उधारकर्ता की मृत्यु के बाद ऋण चुकाने के लिए कौन जिम्मेदार है? क्या इसके लिए कोई नियम है? अगर आप इसके बारे में नहीं जानते तो आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे। चलो पता करते हैं –

होम लोन की वसूली

होम लोन के लिए अलग-अलग नियम लागू होते हैं। होम लोन संपत्ति के कागजात द्वारा सुरक्षित किया जाता है। यदि गृह ऋण लेने के बाद उधारकर्ता की मृत्यु हो जाती है, तो सह-उधारकर्ता या उत्तराधिकारी को ऋण चुकाना पड़ता है। उनके पास ऐसा करने के विकल्प हैं। वे या तो संपत्ति बेच सकते हैं और बैंक को ऋण चुका सकते हैं, या वे अपनी आय से किश्तों का भुगतान जारी रख सकते हैं।

व्यक्तिगत ऋण की वसूली

व्यक्तिगत ऋण असुरक्षित है, जिसका अर्थ है कि इसमें कोई संपार्श्विक शामिल नहीं है। यदि व्यक्तिगत ऋण लेने के बाद उधारकर्ता की मृत्यु हो जाती है, तो बैंक कानूनी उत्तराधिकारी या उधारकर्ता के नामित व्यक्ति से ऋण वसूलने का प्रयास करेगा। हालाँकि, यदि वे भुगतान करने में सक्षम नहीं हैं या वे भुगतान करने से इनकार करते हैं, तो बैंक उनकी कोई भी संपत्ति जब्त नहीं कर सकता है।

बैंक उनके खिलाफ सिर्फ कानूनी कार्रवाई ही कर सकता है। व्यक्तिगत ऋण के लिए कानूनी उत्तराधिकारियों की कोई ज़िम्मेदारी नहीं होती है। तो व्यक्ति की मृत्यु के साथ ही कर्ज भी खत्म हो जाता है।

कुछ बैंक लोन देने के लिए नए विकल्प का भी इस्तेमाल करते हैं। वे ऋण देते समय ऋण लेने वाले का बीमा करते हैं। यदि कर्ज़दार की मृत्यु हो जाती है, तो बैंक बीमा राशि का दावा कर सकता है और उससे कर्ज़ वसूल कर सकता है।

वाहन ऋण की वसूली

दूसरी ओर, वाहन ऋण एक प्रकार का सुरक्षित ऋण है। ऐसे में अगर व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो बैंक उसके परिवार से कर्ज चुकाने के लिए कहता है। अगर वे कर्ज़ नहीं चुकाते तो बैंक गाड़ी बेचकर अपना पैसा वसूल लेता है।

निष्कर्ष

संक्षेप में कहें तो, बैंकों से लोग अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए विभिन्न प्रकार के ऋण लेते हैं। यदि उधारकर्ता की मृत्यु हो जाती है, तो कर्ज़दार व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात उत्तराधिकारी या सह-उधारकर्ता को ऋण चुकाने की जिम्मेदारी होती है। होम लोन और वाहन ऋण जैसे सुरक्षित ऋणों में बैंक अपनी रक्षा कर्जदार की संपत्ति या गाड़ी बेचकर भुगतान कर सकती है।

व्यक्तिगत ऋण में उत्तराधिकारियों की कोई ज़िम्मेदारी नहीं होती है और उन्हें संपत्ति जब्त नहीं की जा सकती है। कुछ बैंक ऋण देते समय बीमा का इस्तेमाल करते हैं जिससे कर्ज़दार की मृत्यु के दौरान बैंक बीमा राशि का दावा कर सकता है और उससे कर्ज़ वसूल सकता है। यही कारण है कि कर्ज लेते समय बैंकों द्वारा नियमों और शर्तों का ध्यानपूर्वक पालन करना महत्वपूर्ण होता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें