गृह मंत्री ने किया ऐलान, अब देश के इन 3 कानून को किया जाएगा खत्म, फिर इन लोगों पर पड़ेगा बुरा असर

भारत के कानूनी परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण विकास हो रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश के तीन प्रमुख कानूनों में बड़े पैमाने पर संशोधन होने जा रहे हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि इन कानूनों को जल्द ही समाप्त कर दिया जाएगा, जिससे कानूनी ढांचे के एक नए युग की शुरुआत होगी।

Home Minister Amit Shah

आइए इस परिवर्तनकारी परिवर्तन को गहराई से देखें और इसके निहितार्थों को समझें। आपके मन में एक सवाल अवश्य चल रहा होगा कि साकार द्वारा किन-किन कानूनों को खत्म करने की बात हो रही है तो चलिए अब हम आपको उसके बारे में सब कुछ बताते हैं।

प्रस्तावित संशोधन

भारत के माननीय गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में मानसून सत्र के अंतिम दिन औपनिवेशिक युग के तीन प्रमुख कानूनों में संशोधन के लिए एक विधेयक पेश किया। सरकार भारतीय दंड संहिता, 1860 (आईपीसी), आपराधिक प्रक्रिया संहिता, 1898 (सीआरपीसी), और भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 (आईईए) में संशोधन करने की तैयारी कर रही है। संशोधनों के बाद, भारतीय दंड संहिता, 1860 को “भारतीय न्याय संहिता 2023” नामक नए कानून द्वारा प्रतिस्थापित किया जाएगा। इसी प्रकार, भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता को “भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता, 2023” से प्रतिस्थापित किया जाएगा और भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 को “भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 2023” से प्रतिस्थापित किया जाएगा।

नए कानूनों की उल्लेखनीय मुख्य बातें

प्रस्तावित परिवर्तनों में कानूनी प्रणाली के विभिन्न महत्वपूर्ण पहलू शामिल हैं:-

नए कानूनों के तहत, पुलिस सहित कानून प्रवर्तन एजेंसियों को तलाशी और जब्ती अभियानों के दौरान वीडियो फुटेज रिकॉर्ड करना आवश्यक होगा। इस कदम का उद्देश्य गलत आरोपों को कम करने के लक्ष्य के साथ पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करना है।

सात साल या उससे अधिक की सजा वाले मामलों में अपराध स्थल पर फोरेंसिक टीम की उपस्थिति की आवश्यकता होगी। इस उपाय का उद्देश्य जांच की सटीकता और संपूर्णता को बढ़ाना है।

वारंट जारी करने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं। वारंट पर निर्णय अब 30 दिनों के भीतर किया जाना चाहिए, और वारंट 7 दिनों के भीतर ऑनलाइन उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

सिविल सेवकों और पुलिस अधिकारियों से जुड़े मामलों में, सरकार को अब मुकदमा शुरू करने के संबंध में 120 दिनों के भीतर जवाब देना होगा। जवाब देने में विफलता के परिणामस्वरूप निहित अनुमति मिल जाएगी, जिससे कार्यवाही शुरू हो सकेगी।
गृह मंत्री ने कहा कि राजद्रोह के आरोपों को पूरी तरह से रद्द कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त, नए कानून सशस्त्र विद्रोह और उग्रवाद को फिर से परिभाषित करते हैं, एक नई व्याख्या प्रदान करते हैं।

दाऊद इब्राहिम जैसे अपराधियों के अपराध करने के बाद देश से भागने के कई मामले सामने आए हैं, ऐसे परिदृश्यों को अधिक गंभीरता से संबोधित करने के लिए नए कानून तैयार किए गए हैं।

ऐसे मामलों में जहां किसी भगोड़े को सत्र न्यायालय द्वारा भगोड़ा घोषित कर दिया जाता है, तो मुकदमा व्यक्ति की अनुपस्थिति में भी आगे बढ़ेगा। प्रतिवादी के पास अपील करने का विकल्प है, लेकिन उनकी अपील पर विचार करने के लिए उन्हें कानून के अधिकार क्षेत्र में आना होगा।

नए कानून बलात्कार के मामलों में मौत की सजा के प्रावधान पेश करते हैं जिसके परिणामस्वरूप बलात्कार के मामलों में सज़ा 20 साल तक बढ़ सकती है या मौत की सजा भी सुनाई जा सकती है।

गृह मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि संगठित अपराध और आतंकवाद पर नकेल कसने के प्रयास किए गए हैं। उन्होंने नए कानूनों को विचारशील विचार-विमर्श के लिए एक स्थायी समिति को भेजने का प्रस्ताव रखा, जिसमें कानूनी आयोगों और बार काउंसिलों से इनपुट भी शामिल होगा।

निष्कर्ष

प्रस्तावित संशोधन भारत के कानूनी ढांचे में एक महत्वपूर्ण बदलाव का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिसका उद्देश्य देश की कानूनी प्रक्रियाओं को आधुनिक बनाना और सुव्यवस्थित करना है। जवाबदेही, पारदर्शिता और निष्पक्ष सुनवाई पर ज़ोर देने के साथ, ये बदलाव भारतीय न्यायिक प्रणाली के लिए एक नए युग का संकेत देते हैं। जैसे-जैसे ये कानून विधायी प्रक्रिया के माध्यम से आगे बढ़ते हैं, उनसे कानूनी परिदृश्य को नया आकार देने और देश में अधिक न्यायपूर्ण और कुशल कानूनी प्रणाली में योगदान देने की उम्मीद की जाती है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें