बिना सोचे-समझे Green Tea पीने वाले हो जाए सावधान, इसके नुकसान जानकर कांपने लगेंगे हाथ

आज-कल की भाग दौड़ भरी लाइफस्टाइल में लोग खुद को फिट करने के लिए तरह-तरह की चीजें अपना रहे हैं। अधिकतर लोग नॉर्मल चाय की जगह ग्रीन टी पीना ज्यादा पसंद करते हैं। ग्रीन टी पीने के बहुत से फायदे हैं, लेकिन अगर इसे एक नियत मात्रा में पिए जाए तो। ग्रीन टी बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ-साथ वजन भी कंट्रोल रखने में हेल्प करती है।

Green Tea

इसे स्किन के लिए भी फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि इसमें बहुत से एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, इसलिए ग्रीन टी को पीने से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। लेकिन अगर इसका ज्यादा मात्रा में सेवन किया जाए तो ये आपके शरीर के लिए हानिकारक भी हो सकती है। आईए जानते हैं ग्रीन टी का अधिक मात्रा में सेवन करना हमारी सेहत को किस तरह से नुकसान पहुंचा सकता है? 

बढ़ सकती है इरिटेशन

ग्रीन टी में कैफीन पाया जाता है, जिससे हेल्थ से जुड़ी बहुत सी समस्याएं होने लगते है। 227 ग्राम ग्रीन टी में 25 से 45 मिलीग्राम तक कैफीन होती है, अगर आप ग्रीन टी का सेवन बहुत ज्यादा करते हैं, तो आपकी हार्टबीट एब्नार्मल हो सकती है और आप नर्वस फील कर सकते हैं  साथ ही छोटी-छोटी बातों में चिड़चिड़ापन होना स्वाभाविक है। 

पाचन तंत्र के लिए नुकसानदायक है ग्रीन टी 

आपके डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए ग्रीन टी अधिक मात्रा में पीना नुकसानदायक हो सकता है। ये आपके डाइजेस्टिव फ्लूड के बैलेंस को बिगाड़ सकता है, जिससे आपका पेट भी खराब हो सकता है। ग्रीन टी में टैनिन पाया जाता है, इसलिए आपके पेट में एसिड ज्यादा बनने लगता है, जिन लोगों को पेट की समस्याएं होती हैं उन्हें ग्रीन टी पीने से बचना चाहिए। 

गर्भवती महिलाओं के लिए जहर है ग्रीन टी

जो महिलाएं गर्भवती हैं, उन्हें ग्रीन टी का सेवन दिन में एक या दो बार ही करना चाहिए, क्योंकि इसमें कैफीन पाया जाता है। जो मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक होता है। अगर आप ज्यादा सेवन करेंगे तो मिसकैरेज की संभावना बढ़ सकती है। हो सके तो प्रेगनेंसी के दौरान ग्रीन टी को ना ही पिए तो अच्छा है, ग्रीन टी के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। 

ऑस्टियोपोरोसिस के मरीज बचकर रहे ग्रीन टी से

अगर किसी व्यक्ति को ऑस्टियोपोरोसिस की शिकायत है या फिर हड्डी से जुड़ी कोई भी समस्या है, तो ग्रीन टी नुकसानदायक हो सकती है। डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही इसका सेवन करें और ऑस्टियोपोरोसिस की स्थिति में इसका सेवन न करना ही फायदेमंद हो सकता है। 

दोस्तों कहते हैं कि किसी भी चीज की ज्यादा मात्रा हमारे लिए घातक हो सकती है। यही नियम ग्रीन टी पर भी अप्लाई होता है। दिन में एक या दो बार से ज्यादा ग्रीन टी का सेवन न करें, तो ही अच्छा है और अगर आपको किसी तरह की भी बीमारी है, तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर ही सलाह जरूर ले ले। 

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें