SIM Card को लेकर सरकार ने बदल दिए नियम, अब ना मानने वाले को देना पड़ेगा 10 लाख रुपए जुर्माना

तेजी से विकसित हो रहे डिजिटल परिदृश्य में, साइबर धोखाधड़ी के मामले न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में बढ़ रहे हैं। इस चिंताजनक प्रवृत्ति को समझते हुए, भारत सरकार ने सिम कार्ड कनेक्शन के संबंध में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। देश में बढ़ते साइबर धोखाधड़ी के मामलों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से केंद्रीय संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने लगभग 67,000 सिम कार्ड डीलरों को ब्लैकलिस्ट करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।

SIM Card

इसके अतिरिक्त, साइबर धोखाधड़ी से पूरी तरह निपटने के लिए, सिम कार्ड डीलरों को अब कोई भी नया कनेक्शन वितरित करने से पहले पुलिस सत्यापन से गुजरना अनिवार्य है तो चलिए अब हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं।

थोक कनेक्शन

इस मुद्दे को संबोधित करते हुए, अश्विनी वैष्णव ने कहा कि देश में बढ़ते साइबर अपराधों को कम करने के लिए, सिम कार्ड डीलरों के लिए अनिवार्य पुलिस सत्यापन लागू किया गया है। इसके अलावा, थोक में सिम कार्ड उपलब्ध कराने वाले डीलरों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

मंत्री ने आगे बताया कि देश भर में लगभग 52 लाख (5.2 मिलियन) सिम कनेक्शन पूरी तरह से निष्क्रिय कर दिए गए हैं। इस उपाय के साथ, लगभग 67,000 डीलरों को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया गया है। मई 2023 से, इन नियमों का उल्लंघन करने वाले सिम डीलरों के खिलाफ कुल 300 एफआईआर दर्ज की गई हैं।

भारी जुर्माना

मंत्री द्वारा यह खुलासा किया गया है कि व्हाट्सएप ने स्वयं 66,000 सिम कनेक्शन समाप्त कर दिए हैं, क्योंकि ये व्यक्ति धोखाधड़ी गतिविधियों और अवैध प्रथाओं में शामिल पाए गए थे। हालाँकि, धोखाधड़ी के प्रवाह को अधिक प्रभावी ढंग से रोकने के लिए, नए नियम में पुलिस सत्यापन अनिवार्य है। इसके अलावा, इन नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों को कानून प्रवर्तन द्वारा लगाए गए दंड का सामना करना पड़ेगा।

अनुसूचित पुलिस सत्यापन

मंत्री ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि देश में लगभग 10 लाख (1 मिलियन) सिम कार्ड डीलर हैं जिन्हें पुलिस सत्यापन से गुजरने के लिए पर्याप्त समय दिया जाएगा। इसके अलावा दूरसंचार विभाग ने इन डीलरों को थोक में सिम कार्ड उपलब्ध कराने पर भी रोक लगा दी है। इसके बजाय, व्यावसायिक कनेक्शन के लिए एक नया दृष्टिकोण पेश किया जाएगा, जिसमें अनिवार्य अपने ग्राहक को जानें (केवाईसी) प्रक्रिया शामिल होगी।

निष्कर्ष

सिम कार्ड डीलरों के लिए अनिवार्य पुलिस सत्यापन की दिशा में भारत का कदम साइबर धोखाधड़ी के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण क्षण है। हजारों डीलरों को काली सूची में डालकर और लाखों कनेक्शनों को निष्क्रिय करके सरकार स्पष्ट संदेश दे रही है कि फर्जी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इन कड़े उपायों के साथ, देश एक सुरक्षित डिजिटल वातावरण की दिशा में महत्वपूर्ण प्रगति कर रहा है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें