आमिर खान के घर पर ED ने मारा छापा, फिर बड़ी मात्रा में मिले 200-500 और 2000 रुपये के नोट, जानिए पूरा मामला

घटनाओं के एक चौंकाने वाले मोड़ में, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने हाल ही में बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान के आवास पर बड़े पैमाने पर छापेमारी की। छापेमारी में पांच ट्रंकों में छुपाई गई बड़ी मात्रा में नकदी की खोज हुई, जिसमें 200-500 और 2000 रुपये के नोट थे।

Money seized in raid

इस कार्रवाई से मनोरंजन उद्योग और उसके बाहर सदमे की लहर दौड़ गई है, जिससे मामले की बारीकी से जांच की जा रही है। आइए इस दिल दहला देने वाली घटना के बारे में विस्तार से जानें।

छापेमारी और जब्त मुद्रा

ईडी के अधिकारियों ने कोलकाता के गार्डन रीच स्थित आमिर खान की भव्य हवेली पर छापेमारी की। शनिवार सुबह शुरू हुए ऑपरेशन में ईडी टीम के साथ-साथ बैंक अधिकारी और केंद्रीय बल भी शामिल थे। परिसर की व्यापक तलाशी में 17 करोड़ रुपये से अधिक नकदी की खोज हुई। ऑपरेशन का मुख्य आकर्षण 200-500 और 2000 रुपये के नोटों से सावधानीपूर्वक भरी गई पांच ट्रंकों का उजागर होना था।

कानूनी कार्यवाही और आरोप

यह छापेमारी मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में दर्ज एक शिकायत के आधार पर की गई थी, जिसमें धन शोधन निवारण अधिनियम के प्रावधानों के तहत मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगाया गया था। यह कदम पिछले साल 15 फरवरी को कोलकाता के पार्क स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में दायर एक पुराने मामले का परिणाम था।

मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन से कनेक्शन

दिलचस्प बात यह है कि जांच का संबंध खुद आमिर खान द्वारा लॉन्च किए गए मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन से लगता है। “ई-नगेट्स” नामक ऐप को शुरू में एक ऐसे प्लेटफॉर्म के रूप में पेश किया गया था जो उपयोगकर्ताओं को कमीशन के साथ पुरस्कृत करता था और बाद में उनके वॉलेट में नकदी भेजता था। हालाँकि, संदेह तब उत्पन्न हुआ जब उपयोगकर्ताओं ने, महत्वपूर्ण रकम का निवेश करने के बाद, बिना किसी बहाने के सिस्टम अपग्रेड के अचानक खुद को एप्लिकेशन से लॉक पाया।

भ्रामक रणनीति और अवैध लाभ

जांच एजेंसियों ने खुलासा किया कि गेमिंग एप्लिकेशन के जरिए यूजर्स को अच्छी खासी कमाई का वादा कर लुभाया गया था। जैसे ही उपयोगकर्ताओं ने ऐप पर भरोसा करना शुरू किया और बड़ी मात्रा में निवेश किया, यह अचानक बंद हो गया, जिससे कई लोगों को काफी नुकसान हुआ। एजेंसी ने आगे खुलासा किया कि तलाशी अभियान के दौरान, उन्होंने व्यक्तियों को धोखा देने और भ्रामक तरीकों से करोड़ों रुपये इकट्ठा करने के लिए फर्जी खातों का उपयोग करने वाले कई संगठनों की खोज की।

कानूनी प्रभाव

छापेमारी और उसके बाद की जांच ने न केवल आमिर खान बल्कि मामले में शामिल कई अन्य लोगों के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की है। यह धोखाधड़ी गतिविधियों में शामिल लोगों के खिलाफ अधिकारियों द्वारा अपनाए गए सख्त रुख को दर्शाता है। जब्त की गई मुद्रा, जिसका चल रही जांच पर महत्वपूर्ण प्रभाव है, स्थिति की गंभीरता के प्रमाण के रूप में कार्य करती है।

निष्कर्ष

आमिर खान के आवास पर ईडी की छापेमारी और उसके बाद छिपी हुई मुद्रा के उजागर होने से वित्तीय धोखाधड़ी का जटिल जाल सामने आया है जो मनोरंजन के क्षेत्र में भी मौजूद हो सकता है। यह घटना एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करती है कि वित्तीय कदाचार अप्रत्याशित क्षेत्रों में प्रवेश कर सकता है। जैसे-जैसे कानूनी कार्यवाही सामने आती है, यह देखना बाकी है कि यह मामला आमिर खान की प्रतिष्ठा और वित्तीय पारदर्शिता की बड़ी कहानी दोनों को कैसे प्रभावित करेगा।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें