Cheapest Cashew: भारत के इस स्थान पर सड़क किनारे आलू-प्याज के भाव में बिकते हैं काजू, झोला भड़कर खरीदते हैं लोग

Cheapest Cashew: अपने समृद्ध और मक्खन जैसे स्वाद के कारण काजू कई लोगों को पसंद है, लेकिन उनकी ऊंची कीमत अक्सर उन्हें ज्यादातर लोगों के लिए एक लक्जरी बना देती है। घटनाओं के एक आश्चर्यजनक मोड़ में, भारत में एक ऐसा शहर है जहां काजू आलू और प्याज के बराबर कीमत पर उपलब्ध हैं।

Cheapest Cashew

यह लेख इस दिलचस्प कहानी पर प्रकाश डालता है कि कैसे यह शहर, किफायती काजू का केंद्र बन गया और उनकी कम लागत के पीछे के कारकों की पड़ताल करता है।

महँगे काजू की पहेली

काजू लंबे समय से अपने कई स्वास्थ्य लाभों और सूखे फल के रूप में लोकप्रियता के लिए जाना जाता है। हालाँकि, उनकी अत्यधिक कीमतें, 800 से 1000 रुपये प्रति किलोग्राम तक, उन्हें कई लोगों के लिए अप्राप्य बनाती हैं। दिलचस्प बात यह है कि ज्यादातर जगहों पर काजू अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों से काफी अधिक कीमत पर बेचे जाते हैं। यह स्पष्ट विरोधाभास सवाल उठाता है: अधिकांश क्षेत्रों में काजू इतने महंगे क्यों हैं?

जामताड़ा का आश्चर्यजनक शहर

आम धारणा के विपरीत, झारखंड राज्य में स्थित जामताड़ा शहर है, जहां काजू अविश्वसनीय रूप से कम कीमतों पर उपलब्ध हैं। यहां, काजू को 30 से 50 रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से खरीदा जा सकता है, जो अन्य क्षेत्रों की लागत से काफी कम है। अन्य जगहों पर प्रचलित ऊंची कीमतों को देखते हुए यह रहस्योद्घाटन एक झटका हो सकता है। लेकिन जामताड़ा को अपवाद क्या बनाता है?

जामताड़ा में काजू का स्वर्ग

जामताड़ा को अक्सर झारखंड के काजू शहर के रूप में जाना जाता है, इसके नाला गांव में लगभग 49 एकड़ में फैले काजू के खेत हैं। इस क्षेत्र में काजू के बागानों का पैमाना अद्वितीय है, जो इसे काजू उत्पादन का स्वर्ग बनाता है। यहां के बड़े काजू फार्म प्रचुर मात्रा में काजू उपलब्ध कराते हैं, जिससे श्रमिकों को उन्हें अविश्वसनीय रूप से किफायती कीमतों पर बेचने की सुविधा मिलती है। स्थानीय किसानों के पास सीमित कृषि संसाधन उपलब्ध होने के बावजूद, वे काजू की खेती से लाभ उठाने में कामयाब रहे हैं।

जामताड़ा में काजू की खेती की उत्पत्ति

जामताड़ा में काजू की खेती का चलन 1990 के दशक की शुरुआत से है। उस समय, जामताड़ा के उपायुक्त ने ओडिशा के कृषि वैज्ञानिकों के साथ मिलकर मिट्टी का परीक्षण किया, जिससे काजू की खेती के लिए क्षेत्र की उपयुक्तता का पता चला। इससे क्षेत्र में बड़े पैमाने पर काजू की खेती की शुरुआत हुई। वन विभाग ने भी बड़ी संख्या में काजू के पेड़ लगाकर योगदान दिया। समय के साथ, काजू के पेड़ फले-फूले, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में काजू के बागान उगे।

आर्थिक प्रभाव

जब काजू के पहले फल आये तो गाँव वाले आश्चर्यचकित रह गये। वे बागानों से काजू तोड़ते थे और उन्हें अविश्वसनीय रूप से कम कीमत पर सड़क के किनारे बेचते थे। प्रसंस्करण सुविधाएं उपलब्ध नहीं होने के कारण, ग्रामीण केवल कच्चे काजू ही बेच सकते थे। यह बात पश्चिम बंगाल के व्यापारियों तक फैल गई, जिन्होंने इन किफायती काजू की क्षमता को पहचाना और इन्हें थोक में खरीदना शुरू कर दिया।

सस्ते काजू की उपलब्धता का जामताड़ा की अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। स्थानीय किसान, संसाधनों की कमी और उचित पर्यवेक्षण जैसी चुनौतियों का सामना करने के बावजूद, एक समृद्ध काजू उद्योग स्थापित करने में कामयाब रहे हैं। हर साल, इस क्षेत्र में हजारों टन काजू का उत्पादन किया जाता है, जिससे रोजगार के अवसर पैदा होते हैं और शहर की आर्थिक वृद्धि में योगदान मिलता है। जिला प्रशासन और वन विभाग ने अतिरिक्त 50,000 काजू के पेड़ लगाकर काजू की खेती को और विस्तारित करने की योजना भी तैयार की है।

error: Alert: Content selection is disabled!!
WhatsApp चैनल ज्वाइन करें