अगर कभी नहीं लिया लोन या उधार फिर भी हो सकती है परेशानी, करना पड़ सकता है इन मुश्किलों का सामना

Bank Loan Recover: आजकल कई लोग उधार या लोन से दूर रहने की प्राथमिकता रखते हैं, लेकिन कभी-कभी जीवन में अकसर अचानक मुसीबतें आ जाती हैं। इसका मतलब यह है कि हमें इन मुसीबतों का सामना करना होगा, और इसे चुकाने के लिए हमें सक्रिय रूप से कदम उठाने होंगे। जिंदगी में उधार लेने की सोच से बाहर निकलकर यह महत्वपूर्ण है कि हम इन मुश्किल हालात का सामना कैसे करें।

Bank Loan Recover

कर्ज लेने और उसे समय पर चुकाने में बड़ा अंतर होता है। बहुत से लोग सोचते हैं कि अगर वे लोन को पहले ही चुका देते हैं तो उनका लोन माफ हो जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं होता। अगर लोन माफ नहीं होता तो उसे चुकाने का जिम्मेदार कौन होता है, चलिए आपको बताते हैं इससे जुड़ी पूरी डिटेल्स।

लोन और उधार ना लेना भी पड़ सकता है भारी (Bank Loan Recover)

जब टाइम पर लोन का भुगतान नहीं होता तो बैंक को सख्त कार्रवाई करने का अधिकार होता है। जब कोई लोन धारक मर जाता है तो उसका लोन माफ नहीं होता है। इस स्थिति में लोन का भुगतान किसी और को उसे चुकाना होता है। अगर लोन का भुगतान नहीं होता, तो गारंटर को उस राशि का भुगतान करना पड़ता है। इसी कारण वित्तीय विशेषज्ञ लोन की गारंटी देने से पहले इसका विचार करने की सलाह देते हैं। हमें लोन की गारंटी देने से पहले बहुत ध्यान से सोचना चाहिए।

जब कोई व्यक्ति पर्सनल लोन लेता है, तो वह लोन के गारंटर, कानूनी वारिस, या को-बॉरोअर के नाम में बदलाव कर सकता है। यहां तक कि गारंटर भी बैंक में अपना नाम बदलने के लिए रिक्वेस्ट दे सकता है। पर्सनल लोन महंगा होता है लेकिन इसमें कोई गारंटी नहीं होती। अगर कोई कर्जदार की मृत्यु हो जाती है, तो गारंटर या कानूनी वारिस से लोन की राशि नहीं वसूली जाती है।

क्या पर्सनल लोन माफ हो जाता है?

पर्सनल लोन में कोई सिक्योरिटी नहीं होती, तो बैंक लोन धारक की प्रॉपर्टी को जब्त नहीं कर सकता। लोन धारक की मृत्यु के बाद, लोन को माफ कर दिया जाता है और बैंक लोन की राशि को एनपीए अकाउंट में डाल देता है। अगर दो व्यक्ति मिलकर पर्सनल लोन लेते हैं, तो उसका भुगतान दूसरे व्यक्ति को करना होता है।

बाकी लोन में बैंक कैसे करता है रिकवर?

पर्सनल लोन में बैंक को प्रॉपर्टी जब्त करने का अधिकार नहीं होता, जबकि बाकी लोन में बैंक प्रॉपर्टी को सीज कर सकता है। अगर कर्जदार की मृत्यु हो जाती है तो बैंक सबसे पहले को-एप्लिकेंट से संपर्क करता है। अगर वे भी इनकार कर देते हैं, तो बैंक गारंटर से संपर्क करता है। अगर गारंटर भी लोन चुकाने से मना कर देता है, तो बैंक प्रॉपर्टी को सील कर देता है और उसे बेचकर लोन की रिकवरी करता है। लोन चुकाने के लिए तैयार व्यक्ति को बैंक गिरवी रखी प्रॉपर्टी का मालिक बना देता है।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें