इस छोटी से गलती की वजह से मनुष्य को होता है 90 फीसदी बीमारियां, जल्द हो जाए सतर्क

आजकल के समय में मानसिक तनाव या स्ट्रेस हर किसी के जीवन का एक हिस्सा बन गया है बड़े तो बड़े अब तो बच्चे भी स्ट्रेस लेने लगे हैं और इसकी बातें करने लगे हैं। हम इस बात को बहुत ही सामान्य रूप से बोल देते हैं लेकिन असल में यह कई बीमारियों की जड़ होता है।

Stress

दुनिया भर में की गई रिसर्च के द्वारा पता चलता है कि 90% बीमारियों और रोगों का कारण तनाव ही होता है। अतः ये बहुत जरूरी होता है कि इसका निदान किया जाए। अगर आप स्ट्रेस, एंजायटी और डिप्रेशन से जूझ रहे हैं तो तुरंत आपको एक थैरेपिस्ट की सहायता लेनी चाहिए और फिट रहने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट की ओर भी ध्यान देना चाहिए। आज के आलेख में हम आपको तनाव के प्रमुख कारणों और उसके निदान की जानकारी से अवगत कराएंगे।

इसलिए खतरनाक है चिंता

हमने अक्सर सुना है कि हमारे बड़े बुजुर्ग कहते थे कि चिंता चिता समान है और इस बात को अब दुनिया भर के डॉक्टर और थैरेपिस्ट ने भी सही माना है। टेंशन और स्ट्रेस के कारण नींद के पैटर्न में बहुत सारे बदलाव आते हैं जो कि आपकी कई बीमारियों का कारण बन सकता है।

स्ट्रेस लेने से ब्लड प्रेशर और हार्टबीट बढ़ सकती है जिससे हार्ट डिजीज स्ट्रोक और अन्य हार्ट प्रॉब्लम हो सकती हैं। इतना ही नहीं स्ट्रेस के कारण अपच, पेट दर्द और कब्ज जैसी पाचन समस्याएं भी हो सकती है और यह आपकी इम्यूनिटी को भी कमजोर बना देती हैं।

टीवी नहीं है स्ट्रेस मैनेजमेंट का तरीका

स्ट्रेस मैनेजमेंट में मार्क हाइमन द्वारा यह बात बताई गई है कि स्ट्रेस मैनेजमेंट सीख कर आप जिंदगी को और भी सरल बना सकते हैं। लेकिन अधिकांश लोग स्ट्रेस कम करने के लिए टीवी देखते हैं किंतु स्ट्रेस मैनेजमेंट केवल टीवी तक सीमित नहीं है, इसके लिए आपको मेडिटेशन को अपनी जिंदगी का एक हिस्सा बनना होगा।

इसके साथ-साथ वॉकिंग, रनिंग, गार्डेनिंग, स्विमिंग, फैमिली फ्रेंड्स के साथ आउटिंग, पेंटिंग, एरोबिक्स जैसी एक्टिविटीज भी करनी होगी जिससे आपका माइंड रिलैक्स रह सके। यानि हर वह आदत जो आपको खुश करें, आपके मन को खुश करें स्ट्रेस मैनेजमेंट का हिस्सा है। हमें दिन भर में कम से कम 20 मिनट अपने शौक के ऊपर व्यतीत करना चाहिए।

एक्सरसाइज है बहुत जरूरी स्ट्रेस मैनेजमेंट के लिए

एक्सरसाइज एक बेहतरीन तरीका है यदि आप रेग्युलर एक्सरसाइज करते हैं तो स्ट्रेस केमिकल को बर्न आउट कर सकते हैं जिससे आपका दिमाग रिलैक्स रहता है कई प्रकार के शोध बताते हैं कि एक्सरसाइज करने से आप डिप्रेशन को बहुत आसानी से कम कर सकते हैं। हमें प्रतिदिन 30 मिनट एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए।

पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेना है जरूरी

आजकल लोग इस पर बहुत ही कम ध्यान देते हैं लेकिन वास्तविकता यह है कि पोषक तत्व और मल्टीविटामिन से भरपूर डाइट लेने से आपका स्ट्रेस लेवल अपने आप कम हो सकता है इसलिए आपको अपनी डाइट में विटामिन सी और बी कांप्लेक्स को जरूर शामिल करना चाहिए।

विटामिन b6 और b5 दोनों ही आपके स्ट्रेस को कम करने में सहायक होते हैं जिसके साथ फोलिक एसिड, जिंक, मैग्नीशियम भी आपकी फिजिकल और मेंटल हेल्थ के लिए बहुत अच्छे रहते हैं। यदि आप किसी भी प्रकार का सप्लीमेंट लेते हैं तो उसके पहले आपको डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

इसके अलावा आप नेचुरल और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को अपनी लाइफ में शामिल करके स्ट्रेस मैनेजमेंट कर सकते हैं। अश्वगंधा, तुलसी, कैमोमाइल, लेमनग्रास, ग्रीन टी आदि स्ट्रेस बूस्टर के रूप में काम करते हैं तथा ये बिल्कुल भी नुकसानदायक नहीं होते हैं।

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें